बर्मिंघम में भारतीय कौंसिल जनरल ने पंजाब के राज्यपाल व मुख्यमंत्री के साथ की बैठकें

चंडीगढ़  (रमनजीत): बर्मिंघम में भारत के कौंसिल जनरल डा. अमर पुरी ने पंजाब के राज्यपाल वी.पी. सिंह बदनौर और मुख्यमंत्री कै. अमरेंद्र सिंह के साथ मुलाकात की। यह मुलाकातें 19 व 20 सितम्बर को पंजाब की राजधानी चंडीगढ़ में हुईं। ये बैठकें वरिष्ठ विदेश सेवा अधिकारियों के मिड करियर ट्रेनिंग प्रोग्राम के तहत आयोजित की गई थीं।

बैठकों में पंजाब और यूनाइटेड किंगडम के बीच व्यापार व निवेश के रिश्तों को मजबूती प्रदान करने के विषय पर चर्चा केंद्रित की गई। कौंसिल जनरल डा. पुरी द्वारा राज्यपाल व मुख्यमंत्री के साथ हुई बैठकों के दौरान इन ढंग-तरीकों पर भी चर्चा की गई, जिनके द्वारा यू.के. कॉन्सलेट यू.के. के मिडलैंड्स इलाकों में बड़ी संख्या में रहने वाले पंजाबियों के जरिए अपना योगदान देकर भविष्य की योजनाओं के लिए पंजाब व यू.के. के बीच संबंध और प्रगाढ़ बना सकता है।

पंजाब सरकार की ओर से हाल ही में कई अच्छी योजनाएं शुरू की हैं, जिनमें ‘अपनी जड़ों से जुड़ो’ (कनैक्ट विद् योर रूट्स) कार्यक्रम ऐसा कार्यक्रम है, जिसके जरिए पंजाब से विदेशों में जाकर बसे परिवारों के ऐसे युवा बच्चों को पंजाब का दौरा करवाया जाता है जो पहले कभी भी अपने बाप-दादा की धरती पंजाब नहीं आए हैं। ऐसे ही कुछ अन्य रास्तों पर भी चर्चा की गई, जिसमें मिडलैंड्स में बसे पंजाबी भाईचारे की सक्रिय भागीदारी से भारत और यू.के. के बीच संबंध मजबूत बनाए जा सकें।

डा. पुरी ने दोनों शख्सियतों को जानकारी दी कि मिडलैंड्स में रहने वाला पंजाबी भाईचारा भारत में सालभर चलने वाले श्री गुरु नानक देव जी के 550वें जन्मदिवस समारोहों में शामिल होने के लिए भी काफी उत्साहित हैं। दोनों शख्सियतों के साथ अपनी बैठकों पर संतुष्टि व्यक्त करते हुए कौंसिल जनरल डा. पुरी ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि बैठकों के दौरान हुई चर्चा से भविष्य में भारत और यू.के. के रिश्ते और मजबूत करने में सहायक सिद्ध होगी और साथ ही इससे पंजाब और विदेशों में बसे पंजाबियों के बीच नजदीकियां बढ़ेंगी।

Related Stories:

RELATED पूर्व मुख्यमंत्री बादल ने ठुकराई कैप्टन की पेशकश,कहा मुझे नहीं चाहिए सुरक्षा