‘भारत में बनेगा आध्यात्मिक विश्वविद्यालय’

नई दिल्ली : भारत की प्राचीन प्रणाली को वैज्ञानिक अनुसंधान पर आधारित दुनिया में पुनर्जीवित करने के लिए भारत में ‘क्वांटम एक्टिविज्म विश्वालयम’ का वीरवार को होटल दि रॉयल प्लाजा में एक्टिविज्म मूवमेंट के संस्थापक 82 वर्षीय भौतिक विज्ञानी डॉ. अमित गोस्वामी ने 300 एकड़ से अधिक भूमि पर ट्रांसफॉर्मेशनल लीडरशिप यूनिवर्सिटी खोलने की घोषणा की।

 यूनिवर्सिटी की शुरुआत में विज्ञान और आध्यात्मिकता को एकीकृत करते हुए 1 वर्षीय फाउंडेशनल सर्टिफिकेट का पाठ्यक्रम होगा उसके बाद मास्टर्स और पीएचडी कोर्सेस उपलब्ध कराए जाएंगे। यूनिवर्सिटी की घोषणा के मौके पर डॉ. अमित गोस्वामी ने कहा कि क्वांटम फिजिक्स प्यार की फिजिक्स है। अमरीका में एक दशक पहले क्वांटम एक्टिविज्म विलेज का निर्माण कर चुके अमित ने कहा कि आखिरकार हमें भारत में एक स्थायी घर मिल गया है। जो कि एक सेंटर ऑफ क्वांटम एक्टिविज्म का वैश्विक मुख्यालय होगा। क्वांटम फाउंडेशन के सीईओ दिनेश कुकरेजा ने कहा कि शुरुआती चरण में हम 100 करोड़ रुपए के शुरुआती निवेश के साथ विश्वालयम की स्थापना करने जा रहे हैं। विश्वालयम 3 पिरामिड में बंटा होगा। जहां क्वांटम लिविंग, पिरामिड मेडिटेशन सेंटर, शैक्षणिक केंद्र, ऑर्गेनिक फॉर्म, सामुदायिक रसोई, क्वांटम उद्यमिता विकास केंद्र आदि जैसे कई अलग-अलग केंद्र होंगे।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED जेएनयू में चुप्पी, छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन पर कर्फ्यू लगाने का आरोप लगाया