FY19 में हायरिंग और इनवेस्टमेंट बढ़ाएगा इंडिया इंक

नई दिल्लीः इस वित्त वर्ष इंडिया इंक के 70 फीसदी से ज्यादा सीईओ हायरिंग बढ़ाने की योजना बना रहे हैं, तो वहीं 44 फीसदी सीईओ इसी दौरान निवेश में काफी इजाफा करने की तैयारी में हैं। कंपनियों के सीईओ के बीच कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्रीज (CII) की ओर से कराए गए एक स्नैप पोल से यह बात सामने आई है।

सरकार जॉब क्रिएशन और प्राइवेट इनवेस्टमेंट को लेकर चिंता में है। शनिवार को नई दिल्ली में सीआईआई नैशनल काउंसिल की मीटिंग में 71 सीईओ ने हिस्सा लिया था। इसी दौरान स्नैप पोल कराया गया था। जीडीपी ग्रोथ का आंकड़ा आने के एक दिन बाद यह पोल कराया गया था। 

इस पोल में भारती एंटरप्राइजेज के वाइस चेयरमैन राकेश भारती मित्तल, डॉ. रेड्डीज लैबोरेटरीज के चेयरमैन सतीश रेड्डी, कोटक महिंद्रा बैंक के सीईओ उदय कोटक, जेके टायर के चेयरमैन रघुपति सिंघानिया, सूजलॉन के सीएमडी तुलसी तांती, टाटा स्टील के सीईओ टी. वी. नरेंद्रन और पिडिलाइट के एमडी भारत पुरी सहित कई दिग्गजों ने हिस्सा लिया था। 

जून क्वॉर्टर में इंडियन इकॉनमी ने 8.2 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की थी। ऐसा प्राइवेट और सरकारी पूंजीगत खर्च बढ़ने के चलते हुआ, जिससे मैन्युफैक्चरिंग ग्रोथ डबल डिजिट में पहुंच गई और कंस्ट्रक्शन सेक्टर ने दमदार प्रदर्शन किया।

पोल में शामिल अधिकतर सीईओ ने उम्मीद जताई कि कंज्यूमर डिमांड, प्राइवेट इनवेस्टमेंट, एंप्लॉयमेंट और एक्सपोर्ट्स सरीखे अहम इकॉनमिक इंडिकेटर्स में सुधार आएगा। इनमें से 70 फीसदी ने कहा कि वित्त वर्ष 2019 में जीडीपी ग्रोथ 7.25 फीसदी से ज्यादा रहेगी, वहीं 31 फीसदी ने उम्मीद जताई कि यह 7.5 फीसदी से अधिक रहेगी। 
 
 

× RELATED आयात पर अंकुश नहीं निर्यात बढ़ाने पर ध्यान दे सरकार: फियो