पांगी भी देखो जनाब, 23 हजार लोगों के लिए एक एम्बुलैंस और वह भी खराब

पांगी (सूर्यवंशी): भाजपा सरकार के दुर्गम पांगी घाटी में विकास के दावे प्रशासनिक और सरकारी लेवल पर खोखले साबित हो रहे हैं। हकीकत यह है कि यहां न तो बेहतर सड़कें बन पाई हैं, न स्वास्थ्य सुविधाएं हैं और न ही प्रशासन सही काम कर रहा है। 23,000 की आबादी वाली घाटी में एकमात्र 108 एम्बुलैंस है और वह भी खराब रहती है तथा किलाड़ अस्पताल सहित पूरी घाटी की पी.एच.सी. और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में 60 प्रतिशत स्टाफ  की कमी है।

युवा कांग्रेस के महासचिव सुरजीत भरमौरी ने पूरे पांगी का दौरा करने के बाद मुख्यालय किलाड़ में पंजाब केसरी के साथ बातचीत में कहा कि यहां कई दिनों से एस.डी.एम. का पद खाली पड़ा है जिस कारण घाटी के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कांग्रेस सरकार के दौरान पांगी घाटी के लिए 3 मिनी बसें लगाने के लिए परिवहन मंत्री से सिफारिश की गई थी लेकिन अभी तक यह मामला केलांग और शिमला के बीच लटका पड़ा है। सुरजीत ने कहा कि पांगी घाटी में ठेकेदारी प्रथा हावी है। उन्होंने कहा कि पांगी घाटी में लोक निर्माण विभाग और आई.पी.एच. विभाग की टैंडर प्रक्रिया ऑनलाइन होनी चाहिए।

सुरजीत ने कहा कि घाटी में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत जो सड़कें बनी हैं उसमें जिन जमींदारों की जमीनें गई हैं उनकी जमीनों को बचाने के लिए सही डंगे नहीं लगाए गए हैं। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनावों में कांग्रेस की जीत होगी और राहुल गांधी का पांगी दौरा करवाया जाएगा। घाटी के लोगों को 12 महीने शेष विश्व से जोडऩे के लिए चेहनी सुरंग के निर्माण को लेकर भी राहुल गांधी से बात की जाएगी। इस टनल को बनाने के लिए 2-3 जगह से सर्वे हो चुका है लेकिन हर बार इसका निर्माण कार्य राजनीति की भेंट चढ़ा है।

Related Stories:

RELATED ऐतिहासिक शहर चम्बा बना अचम्भा, यहां न खेल मैदान न पार्किंग का समाधान