विदेश जानें के लिए जरुरी है IELTS,क्या जानते हैं आप कहा से होती है इसकी शुरुआत

एजुकेशन डेस्कःइंटरनेशनल इंग्लिश लैंग्वेज टेस्टिंग सिस्टम (IELTS) दुनिया भर में सबसे प्रसिद्ध इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट है। दुनिया भर के कई देशों के एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, प्रोफेशनल रजिस्ट्रेशन संस्था, सरकारी इमिग्रेशन एजैंसी इंग्लिश लैंग्वेज स्किल्स के प्रूफ के लिए इस टेस्ट की मांग करते हैं। अगर आपको विदेश में कॉलेजों में एडमिशन लेना है तो यह एक जरूरी काग्जात है।

 कई देशों में तो IELTS के बिना वीजा की सुविधा ही नहीं मिलती। दुनिया भर में 9000 आर्गेनाइजेशन इस टेस्ट को स्वीकार करते हैं।  अगर आपको विदेश में पढ़ाई करनी है तो इस टेस्ट को पास करना होगा। इस एग्जाम में 4 सेक्शन होते हैं: लिस्निंग, रिडिंग, राइटिंग, स्पीकिंग। अगर इन छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखेंगे तो ये टेस्ट जरूर पास कर लेंगे और आपका विदेश जाने का सपना साकार होगा। इतना ही नहीं कई लोगों को ते ये भी पता नहीं होता कि वे IELTS की शुरुआत कैसे करें तो पंजाब केसरी आपके लिए लाया है जानकारी से भरपूर खबरों का पिटारा जिसके द्वारा आपको दी जाएगी विदेशी पढ़ाई के बारे में पूरी जानकारी। बस हमारा एप डाऊनलोड करें। हमारा फेसबुक पेज लाईक करें जहां से मिलेगी हर अपडेट। अगर आपका कोई सवाल है तो वे आप कंमेट बॉक्स में लिखें। 

इन प्रशनों के उतर याद कर शुरु करें पढ़ाई
1. What is grammar?
2. Why is grammar important?
3. What  kind of problems are faced while learning grammar?
4. What all things are learnt or covered in grammar? or what are the most important topics in grammar?
5. Is grammar necessary for attaining good proficiency in the language?
6. What is the best method to learn grammar?
7. How is grammar beneficial in learning a language?
8. How can grammar be improved?
9. What should be done to minimize grammatical errors?
10. Why is grammar so important in IELTS exam?
11. How can grammar be helpful in scoring good bands in all the four modules of IELTS?
12. What are some of the important rules of grammar to keep in mind?
13. What kind of grammar exercises prove helpful for quick learning?
14. How long does it take to learn grammar?
15. What is the duration of grammar classes usually?
16. What are the consequences of having lack of knowledge in grammar?


 

इन बातों का रखें ध्यान
(1) लिस्निंग सेक्शन में रिकॉर्डिंग शुरू होने से पहले ही हर सेक्शन के सवालों को ध्यान से पढ़ लें, इससे आपको रिकॉर्डिंग के दौरान सवालों को समझने में मदद होगी।

(2) राइटिंग सेक्शन में शब्दों का इस्तेमाल करते समय सावधान रहें अगर आपने सवालों के ही शब्दों को लिखा है तो एग्जामिनर वर्ड काउंट में उन शब्दों का नहीं गिनेगा।

(3) कई सवालों में शब्द सीमा के बारे में लिखा होता है। उदाहरण के लिए 3 शब्दों में आंसर लिखें। ऐसे में ज्यादा शब्द लिखने से बचें और कम से कम शब्दों में अपना आंसर खत्म करें।

(4) रिडिंग टास्क में आपको हर शब्द का अर्थ निकालने की जरूरत नहीं है। आपके पास इतना समय नहीं होता कि आप हर शब्द का अर्थ निकालें। आप सेंस निकाल कर वाक्य का अर्थ जान सकते हैं।

(5) रिडिंग टास्क में कभी-कभी उदाहरण दिए गए होते हैं। अगर ये कोई केस है तो इसे पढ़ें और इस बात को जांचे कि क्या यह सही है।

(6) राइटिंग सेक्शन में अगर आपने एक टास्क में 150 वर्ड्स लिखे हैं और दूसरी टास्क में 250 वर्ड्स लिखे हैं तो आपको कम नंबर मिल सकते हैं लेकिन ज्यादा से ज्यादा शब्द लिखने से बचें।

(7) स्पीकिंग के दौरान पहले से स्पीच को तैयार करके ना लाएं या फिर एग्जामिनर जो पूछे उससे अलग टॉपिक पर बात ना करें, एग्जामिनर जो सवाल पूछे उसका सीधे-सीधे जवाब दें।

(8) इस बात का ध्यान रखें कि आपका जनरल नॉलेज का नहीं बल्कि इंग्लिश कम्यूनिकेशन का टेस्ट हो रहा है इसलिए बात करते समय अपने कम्यूनिकेशन पर ज्यादा ध्यान दें।

(9) जब भी आप एग्जामिनर के सवाल का जवाब दें तो हां या ना में मत दें कोशिश करें कि कम से कम एक प्वाइंट में अपनी बात को विस्तार से जरूर समझाएं।

(10) अपने आइडियाज और लिंक्स को आर्गेनाइज करें और वाक्य बनाएं और बोलते समय-समय धीरे-धीरे नार्मल स्पीड से बोलें और कोशिश करें कि उसमें इंग्लिश के अच्छे से अच्छे शब्दों का इस्तेमाल हो। इसके अलावा ज्यादा जानकारी के लिए आप कंमेट बॉक्स में कंमेट कर प्रशन पूछ सकते हैं।

Related Stories:

RELATED IELTS कर रही नाबालिग छात्रा को अगवा कर किया कत्ल