जानिए, मरने के बाद किसी गलती की मिलती है कैसी सज़ा?

ये नहीं देखा तो क्या देखा (VIDEO)
मृत्यु एक ऐसा सत्य है जिसे चाहे कोई जितना भी झुठलाए लेकिन ये बदल नहीं सकता। कहने का भाव है कि ये मौत वो कड़वा खूट है जिसे न चाहते हुए भी पीना पड़ता है। लेकिन कहते हैं ये कड़वा खूट मिठास में बदल सकता है। जी हां, हम जानते हैं ये जानने के बाद आपके दिमाग़ में ये सवाल ज़रूर आया होगा कि आख़िर ऐसे कैसे हो सकता है। तो आपको बता दें कि ये सब हमारे यानि मनुष्य द्वारा किए गए कर्मों के ऊपर निर्भर होता है। शास्त्रों के अनुसार मनुष्य जो भी कर्म करता है चाहे अच्छे, चाहे बुरे। सब का लेखा-जोखा उन्हें इसी जन्म में भुगतना पड़ता है। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं गरुड़ पुराण में बताई गई उन बातों के बारे में जिनसे आपको पता चल सकेगा कि मनुष्य द्वारा किए गए किस पाप की कौन से नर्क में कैसी सज़ा मिलती है। हिन्दू धर्म के ग्रंथों के मुताबिक अनुसार हमारे अच्छे कर्म ही हमें जीवन की कठिनाइयों से मुक्त करवाने में सक्षम होते हैं। तो वहीं हमारे बुरे कर्म मृत्यु के बाद भी हमारा साथ नहीं छोड़ते।

गरुड़ पुराण, मृत्यु के बाद पढ़ा जाने वाला यह पुराण मनुष्य के कर्मों के हिसाब का ही संकलन है। इसमें अलग-अलग नर्कों का जिक्र भी किया गया है, जहां हमें अपने पापों की सजा मिलती है।


जानिए कैसे हैं वो नर्क और कौन सी हैं वो गलतियां जिनकी मिलती है भयानक सजाएं-
अंधात्मत्स्रम नर्क
कहा जाता है यह नर्क उन पति-पत्नियों की आत्माओं के लिए हैं, जो अपने पार्टनर को केवल लाभ या उपभोग की एक वस्तु समझते हैं। इस नर्क में उनकी आत्माओं को मारा जाता है। यह सिलसिला बहुत तेज़ गति से चलता है।

तमिश्रम नर्क
जो लोग जीते-जी दूसरों की संपत्ति हड़पते हैं। उनकी आत्माओं को बंदी बनाकर यमराज द्वारा तमिश्रम नामक नर्क में फेंका जाता है और यहां उन्हें तब तक मारा जाता है जब तक कि वे बेहोश न हो जाएं। दोबारा होश में आने के बाद फिर से उन्हें इसी तरह लहूलुहान किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार यह सिलसिला तब तक चलता है जब तक कि सजा का समय समाप्त ना हो जाए।

कुंभीपाकम नर्क
इस नर्क में शिकारी लोगों यानि उन लोगों की आत्माओं को लाया जाता है़,जो अपने शौक के लिए जानवरों की हत्या की होती है। यहां उनके इस कर्म की सज़ा में उन्हें खौलते तेल में उबाला जाता है।

असितापत्रम नर्क
जो लोग अपने कर्तव्यों से मुंह मोड़ते हैं,जिम्मेदारियों से भागते हैं, इस नर्क में उन लोगों की आत्माओं को फेंका जाता है। यहां लाकर उन्हें तब तक चाकुओं से छलनी किया जाता है जब तक कि वे बेहोश नहीं हो जाते।

कलासूत्रम नर्क
कलासूत्रम नर्क में उन आत्माओं के लाया जाता है, जिन्होंने अपने जीवन में कभी बड़ों का आदर-सम्मान नहीं किया होता। इस नर्क में बुरे कर्मों की सज़ा देने के लिए अधिक गर्मी में तब तक रखा जाता है जब तक उनकी सजा की सीमा समाप्त नहीं हो जाती।  


सुकरमुखम नर्क
इस नर्क में उन लोगों को आत्माओं को रखा जाता है जो दूसरों को अपने हाथ की कठपुतली समझकर नचाते हैं, यानि अपनी मन मुताबिक हर काम करवाते हैं और उनके साथ निर्दयता से बर्ताव करते।

वैतरणी नर्क
गरुड़ पुरण के अनुसार प्रेत यानि आत्मा को शरीर छोड़ने के बाद गंतव्य स्थान तक जाने के लिए वैतरणी नदी नामक पार करनी होती है। यह नदी मानव मल-मूत्र, मरे हुए कीड़ों, हड्डियों, रक्त, मांस से भरी होता है। कहा जाता है जिन लोगों के पाप अतुलनीय हो, जिन्होंने पूरी जिंदगी अपनी शक्तियों का गलत प्रयोग किया हो, दूसरों का दमन किया हो, उन्हें मरने के बाद इसी नदी के घटकों पर जीवन जीना होता है।

तप्तमूर्ति नर्क
जो लोग अपने जीवन में हीरे, जवाहरातों, सोने आदि जैसे बहुमूल्य रत्नों की चोरी करते हैं उनकी आत्माओं को सजा देने के लिए आग के इस नर्क में रखा जाता है। यह नर्क आग से जलता रहता है।

पुयोडकम नर्क
शास्त्रों में किए पुयोडकम नामक नर्क के वर्णन के अनुसार यह नर्क एक प्रकार का कुंआ होता है जो मानव मल-मूत्र, रक्त और अन्य घृणित वस्तुओं से भरा होता है। यहां उन लोगों की आत्माओं को लाया जाता है जो विवाह किए बिना दूसरी महिलाओं के साथ शारीरिक संबंध बनाते हैं और उन्हें धोखा देते हैं।

अविसी नर्क
अविसी नर्क उन लोगों के लिए होता है जो झूठी गवाही देते थे और अपने फायदे के लिए दूसरे को फंसाते थे। यहां उन्हें बहुत ऊंचाई से नीचे फेंका जाता है।


ललाभक्षम नर्क
जो पुरुष अपनी पत्नी को जबरदस्ती अपना वीर्य पीने के लिए मज़बूर करते हैं, उनके लिए ललाभक्षम नर्क बनाया गया है। यह कुंआ वीर्य से भरा होता है, यहां आने वाली आत्माओं को तब तक इस कुएं में रखा जाता है जब तक सजा की सीमा समाप्त नहीं हो जाती।

रौरवम नर्क
जो लोग ता उम्र दूसरों के संसाधनों पर राज़ करते हैं उन लोगों की आत्माओं को इस नर्क में लाया जाता है। यहां उन्हें सांपों द्वारा कटवाया जाता है।

Related Stories:

RELATED किस तरह के लाफिंग बुद्धा को घर में रखना होता है शुभ ?