होली स्पेशल- पार लगाएंगे नैया कृष्ण कन्हैया

ये नहीं देखा तो क्या देखा (Video)

यदि आप आए दिन किसी न किसी परेशानी से जूझ रहे हैं तो होली के रंगोत्सव पर अपनी बंद किस्मत के दरवाजे खोलने के लिए तैयार हो जाएं। 

दुख-दरिद्रता एवं दुर्भाग्य से मुक्ति:इस दिन अभिमंत्रित एकाक्षी श्रीफल, लघु श्रीफल, पांच गौमती चक्र, इंद्रजाल एवं 5 गुलाब जामुन मंत्र उच्चारण करते हुए यमुना नदी में (अन्य किसी पवित्र नदी में भी प्रवाहित किया जा सकता है) प्रवाहित करने से दुख-दरिद्रता एवं दुर्भाग्य से मुक्ति मिलती है। परेशानियों के बादल छंटने लगते हैं, सुख-समृद्धि का संचार जीवन में होता है। 

यहां मिलेगी होली से जुड़ी हर जानकारी

शत्रु, बीमारी एवं समस्त कष्टों से मुक्ति के लिए: होली के दिन एकाक्षी श्रीफल पर कामिया सिंदूर, मौली, अक्षत, पांच मिठाई, गुलाब के फूल अर्पित कर पूजन करें। फिर यह सारी सामग्री हरे चारे के साथ गौमाता को खिला दें।

श्रीवृद्धि के लिए: अभिमंत्रित एकाक्षी श्रीफल, गौमती चक्र, छुहारे को होली पर प्रात: कामिया सिंदूर, अक्षत एवं लाल पुष्प से पूजन करें। किसी चमकीले लाल वस्त्र में लपेट कर रखने से श्रीवृद्धि होती है तथा इसे व्यापार-स्थल में रखना भी अति शुद्ध माना जाता है।

विवाह के लिए: पीले कपड़े में पपीता, मक्खन, मिश्री, केसर, बांसुरी चढ़ाएं तथा श्रीकृष्ण को कलंगी व मोर पंख मुकुट पर पहनाएं। सोने या चांदी की बांसुरी चढ़ाएं तथा इस मंत्र का जाप 108 बार करें:- ‘‘ओम क्लीं कृष्णाय गोविंदाय गोपीजनवल्लभाय स्वाहा।’’

दाम्पत्य सुख के लिएजिसका कोई नहीं उसके भगवान श्रीकृष्ण होते हैं। गृह-क्लेश एवं दाम्पत्य जीवन में तनाव को दूर करने के लिए इस शुभ अवसर पर भगवान श्री राधा-कृष्ण के सामने पांच बत्ती का दीपक जलाकर धूप-दीप लगाकर पांच ऋतु फल, माखन-मिश्री का भोग लगाकर मोहिनी मंत्र का जाप करते हुए उपर्युक्त सामान के साथ गौमाता को सवामणी लगाएं। 

राहु-केतु के बुरे असर को मिटाने के लिए होली से पहले करें ये ख़ास उपाय

Related Stories:

RELATED वेस्ट मैटेरियल से तैयार किया ग्राफीन का पेटेंट, जानिए क्यों है ख़ास