हिमाचल की मिट्टी में भी हो सकती है पार्सले और सेलेरी की खेती

पालमपुर : मध्य पूर्वी, यूरोपीय और अमरीकी खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए प्रयोग किए जाने वाले पार्सले और सेलेरी की खेती के लिए हिमाचल की जमीन भी उपयुक्त है। चौधरी सरवन कुमार कृषि वि.वि. द्वारा प्रयोग के रूप में उगाई गई पार्सले और सेलेरी के सफल परिणाम सामने आने लगे हैं। हालांकि अभी प्रदेश के लोग सब्जियों में धनिया की तरह प्रयोग होने वाली इन हर्ब के बारे अधिक नहीं जानते हैं।

लेकिन इनकी खेती स्थानीय लोगों के साथ-साथ पर्यटकों के लिहाज से आर्थिकी के बेहतरीन द्वार खोल सकती है। धनिये की तरह दिखने वाली पार्सले एक विदेशी हर्ब है। यूरोप व अमरीकी खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए इसका काफी प्रयोग होता है। कृषि वि.वि. के सब्जी वैज्ञानिक डा. प्रदीप कुमार ने बातचीत में बताया कि पार्सले और सेलेरी का हिमाचल में भी काफी स्कोप है। यहां इसके लिए वातावरण काफी अच्छा है।

Related Stories:

RELATED यहां लहलहा रही अफीम की अवैध खेती