Hanuman Jayanti: जानें, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

ये नहीं देखा तो क्या देखा (Video)
राम भक्त हनुमान जी का जन्मदिन साल में दो बार मनाया जाता है। एक बार कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी पर और दूसरा चैत्र शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को हनुमान जंयती मनाए जाने का विधान है। वर्ष 2019 में 19 अप्रैल को हनुमान जयंती का पर्व मनाया जाएगा। इस दिन बहुत सारे शुभ संयोग एकसाथ बन रहे हैं। ज्योतिष विद्वानों के अनुसार मंगल ग्रह से संबंधित चित्रा नक्षत्र, हर्षण योग और राज योग के साथ श्री हनुमान जयंती मनाई जाएगी।

शुभ मुहूर्त
हनुमान जयंती का शुभ मुहूर्त सूर्य उदय के बाद 11.32 से आरंभ होकर दोपहर 4.42 तक रहेगा। इस दौरान प्रसन्नता देने वाला हर्षण योग रहेगा। धर्म-कर्म के कार्य करने के लिए मंगलमय राज योग भी रहेगा। सूर्यास्त के बाद चित्रा नक्षत्र 7.30 बजे से आरंभ हो जाएगा। इस मुहूर्त में भी बजरंगबली की उपासना करने से शुभ फल प्राप्त होंगे।

पूजा सामग्री
एक चौकी, लाल कपड़ा, हनुमान जी की प्रतिमा या चित्र, अक्षत यानी बासमती चावल ध्यान रहे चावल टूटे हुए न हों, गाय का देसी घी, सुगंधित फूल, चंदन, रोली, गंगाजल, तुलसी पत्र, धूप, नैवेद्य और भोग लगाने के लिए गुड़ और भुने हुए चने।  

पूजा विधि
ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान करें, साफ और स्वच्छ वस्त्र पहनें। थोड़ा सा गंगाजल अपनी अंजली में भरकर व्रत का संकल्प करें।  पूर्व दिशा में एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाएं। उसके ऊपर बजरंग बली की प्रतिमा या चित्र विराजित करें। दीप और धूप जलाएं। दीपक में देसी घी और चावल डालें। हनुमान जी को चंदन और रोली का तिलक लगाएं, उसके ऊपर चावल लगाएं। सुगंधित फूल चढ़ाएं। गुड़ और भुने हुए चने के ऊपर तुलसी दल रखकर नैवेद्य का भोग लगाएं। सबसे पहले गणेश जी को प्रणाम करें क्योंकि वो प्रथम पूज्य हैं। फिर हनुमान जी के इष्ट श्री राम के मंत्र "राम रामाय नमः" का जाप करें। अब हनुमान जी के मंत्र "ॐ हं हनुमते नमः" का जाप करें। अंत में हनुमान चालीसा का पाठ करके आरती करें।    
 

Related Stories:

RELATED गुरुवार को इस विधि से करें देव गुरु बृहस्पति का पूजन, बदल जाएगी किस्मत