पब्लिक सर्विस कमीशन के पूर्व चेयरमैन ने आत्महत्या से पहले किया था ये सब, पढ़ें खबर

शिमला: हिमाचल प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन के पूर्व चेयरमैन सेवानिवृत्त मेजर जनरल चंद्र मोहन शर्मा ने अपने आप को गोली दागकर आत्महत्या करने के मामले में खुलासा हुआ है कि पिस्तौल से 2 गोलियां चलाई गईं थीं। मृतक सी.एम. शर्मा ने पहली गोली अपने ही आवास के बेसमैंट में ट्रायल के तौर पर चलाई थी। उन्हें शक था कि पिस्तौल से गोली चलेगी या नहीं। इसलिए पहली गोली ट्रायल के तौर पर चलाई और तुरंत उसके बाद ही सी.एम. शर्मा ने दूसरी गोली अपने सिर पर दाग दी, जिसके चलते उनकी मौत हो गई। पुलिस ने पिस्तौल को अपने कब्जे में ले लिया है और जल्द ही पिस्तौल को जांच के लिए फोरैंसिक लैब भेजा जाएगा।

शनिवार को भी जारी रही पुलिस की कार्रवाई
पुलिस की मामले को लेकर शनिवार को भी कार्रवाई जारी रही और काफी सारे सुबूत जुटाए गए। पुलिस जांच में यह पता लगा रही है कि क्या गोली चलाने का मुख्य कारण बीमारी से पीड़ित होना ही है, जोकि सी.एम. शर्मा ने सुसाइड नोट में लिखा है या फिर कोई अन्य कारण है। पुलिस आत्महत्या करने के अन्य पुख्ता सुबूत जुटा रही है। पुलिस ने पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया है। पुलिस की नजर फिलहाल अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर टिकी है। पुलिस को पोस्टमार्टम रिपोर्ट से काफी सुबूत हाथ लग सकते हैं। पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के तहत भी कार्रवाई को आगे बढ़ाया जाएगा। 

कनलोग में हुआ अंतिम संस्कार
पुलिस ने शनिवार को शव परिजनों को सौंपा तो उसके बाद परिजनों ने शव का दाह-संस्कार करवाया। शव का अंतिम संस्कार शिमला के कनलोग में हुआ। इस दौरान परिजन, मृतक सी.एम. शर्मा की पत्नी सहित उनके रिश्तेदारों की आंखों से आंसू थमते नजर नहीं आए।

क्या बोले डी.एस.पी. शिमला
डी.एस.पी. शिमला प्रमोद शुक्ला ने बताया कि शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों का सौंप दिया है। शव का दाह-संस्कार भी हो गया है। जो पिस्तौल बरामद हुई है, उसे जांच के लिए फोरैंसिक लैब जुन्गा भेजा जाएगा। पुलिस की मामले को लेकर कार्रवाई जारी है।

Related Stories:

RELATED न.पा. चेयरमैन को शपथ दिलाने का इंतजार, वार्डों में चरमराई सफाई व्यवस्था