रेस्तरां में खाने का लुत्फ उठाना होगा महंगा, घर की रसोई भी जेब पर पड़ेगी भारी!

बिजनेस डेस्कः रेस्तरां में मसालेदार खाना खाना या बटर चिकन का स्वाद लेना अब जेब पर भारी पड़ेगा। घर की रसोई का बजट भी बढ़ेगा क्योंकि केरल में बाढ़ की वजह से मसालों की कीमत आसमान छूने लगी है। पंजाब में इलायची, जायफल और जावित्री की कीमतों में 100 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। व्यापारियों का कहना है कि उन्हें कीमतों में तत्काल राहत की संभावना नहीं दिख रही है क्योंकि बाढ़ के कारण केरल में बहुत सारी फसल क्षतिग्रस्त हो गई है।



बढ़े मसालों के दाम 
केरल सुगंधित मसालों का एक प्रमुख उत्पादक और आपूर्तिकर्ता है। इसे मसालों की भूमि भी कहा जाता है। त्यौहारी मौसम में मसाले महंगे होने से घर की रसोई संभालने वाली महिलाओं की चिंता बढ़ गई है। व्यापारियों के मुताबिक सप्लाई कम होने से पिछले 15 दिनों में जायफल, जावित्री, लौंग, इलायची, तरबूज के बीज, अदरक पाउडर, काली मिर्च और दालचीनी के रेट बढ़ गए हैं। उन्होंने कहा कि इलायची उत्पादक जिलों में आधे से ज्यादा फसल क्षतिग्रस्त हो गई है, जिस कारण इलायची के अलावा केरल से आने वाले अन्य मसालों की कीमतों में वृद्धि हुई है।



काली मिर्च के कीमत 500 रुपए के पार
व्यापारियों के अनुसार इलायची, जायफल और जावित्री के दाम बढ़कर 1600 रुपए प्रति किलो तक पहुंच गए हैं, जो पहले 800 रुपए थे। तरबूज के बीज जो पहले 500 रुपए प्रति किलो पर बिक रहे थे, अब 800 रुपए प्रति किलो हो गए हैं। लौंग की कीमत बढ़कर 1,200 रुपए प्रति किलो हो गई है। वहीं अदरक पाउडर अब 170 रुपए के बजाय 250 रुपए प्रति किलो पर उपलब्ध है। काली मिर्च की कीमत 150 रुपए से बढ़कर 500 रुपए प्रति किलो पर बिक रही है। दालचीनी के दाम 250 रुपए प्रति किलो हो गए हैं, जो कुछ समय पहले 180 रुपए में मिल रही थी। हरी इलायची केवल केरल से आती है, इसलिए इसकी कीमतों पर भी ज्यादा असर पड़ा है।



 

Related Stories:

RELATED सिल्क या शिफॉन, साड़ियों की ऐसे करेंगे देखभाल तो चमक नहीं होगी खराब