फीस की जानकारी न देने वाले स्कूलों पर शिक्षा विभाग कसेगा शिकंजा

चंडीगढ़(रश्मि) :चंडीगढ़ शिक्षा विभाग ने प्राइवेट स्कूलों पर शिकंजा कसने की तैयारी कर ली है। जिन्होंने समय अवधि बीत जाने के बाद भी अभी तक फीस हाईक संबंधी जानकारी शिक्षा विभाग को नहीं भेजी है। 

हालांकि शिक्षा विभाग ने समय अवधि बीत जाने के बाद भी सभी स्कूलों को तीन बार रिमांडर भेज याद करवाया लेकिन इसके बावजूद शहर के 11 स्कूल ऐसे हैं जो रिमाइंडर्स को गंभीरता से नहीं ले रहे। जिसे लेकर शिक्षा विभाग ने अब स्कूलों पर शिकंजा कसने की तैयारी कर ली है।  

स्कूल क्यों नहीं दे रहे जानकारी :
शिक्षा विभाग के सूत्रों के अनुसार रिमांइडर के बावजूद प्राइवेट स्कूलों द्वारा जानकारी न दिए जाने का सबसे बड़ा कारण यह है कि किसी भी प्राइवेट स्कूल द्वारा बढ़ाई फीस 8 प्रतिशत से अधिक हुई तो फीस वापस करनी पड़ सकती है।

जिसे लेकर कई अभिभावकों ने भी शिकायत की है कि प्राइवेट स्कूल 8 प्रतिशत से अधिक फीस वसूल रहे हैं। बता दें कि विभाग ने वर्ष 2017-18, 2018-19 और  2019-20 के सत्र में वसूली फीस की जानकारी मांगी है, ताकि पता चल सके कि किस स्कूल ने अधिक फीस वसूली है। साथ ही स्कूल ने कोई अतिरिक्त चार्ज लिया है तो उसकी भी डिटेल भी देनी होगी।

इन स्कूलों ने नहीं दी जानकारी :
-रेयान इंटरनैशनल स्कूल सैक्टर-49बी
-सेंट कबीर पब्लिक स्कूल सैक्टर-26
-न्यू पब्लिक स्कूल सैक्टर-18
-सॉपिंस स्कूल सैक्टर-32
-बाल निकेतन सी. सै. स्कूल सैक्टर-37
-अंकुर स्कूल सैक्टर-14
-शारदा सर्वहितकारी स्कूल सैक्टर-40 
-सेंट मैरी स्कूल सैक्टर-46
-फर्स्ट स्टेप सैक्टर-26
-गुरु हरकिशन स्कूल 
-लिटिल फ्लावर स्कूल, मनीमाजरा

Related Stories:

RELATED निजी स्कूलों की मनमानी पर शिक्षा विभाग कसेगा शिकंजा, गठित की टीमें(Video)