ईडब्ल्यूएस कोटे के तहत बढ़ सकते है शिक्षकों के 4000 पद

नई दिल्ली:हाल ही में सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से पिछड़े (ईडब्ल्यूएस) अभ्यर्थियों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण लागू किए जाने से देशभर के 40 केंद्रीय विश्वविद्यालयों में आगामी शैक्षिक सत्र में शिक्षकों के 4 हजार से अधिक पदों की बढ़ोतरी होने की संभावना है। अनुमानन अकेले दिल्ली विश्वविद्यालय में लगभग 3 हजार नए पद सृजित होंगे। ईडब्ल्यूएस के तहत आने वाले अभ्यर्थियों में सरकार के इस फैसले को लेकर खुशी का माहौल है।

दिल्ली यूनिवर्सिटी की एकेडमिक काउंसिल के पूर्व सदस्य प्रो. हंसराज सुमन ने बताया है कि 40 केंद्रीय विश्वविद्यालयों में स्वीकृत 17,092 शैक्षिक पदों में से 11,486 पदों को भरा गया है। इसमें 5606 पद पिछले कई वर्षों से खाली है। अब जब सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से पिछड़े अभ्यर्थियों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने से इन विश्वविद्यालयों में 4273 सीटों का इजाफा होगा। 

ये सीटें विश्वविद्यालयों के विभागों में बढ़ेंगी, इन विश्वविद्यालयों के अंतर्गत संबंध कॉलेजों में सीटों का इजाफा रोस्टर के हिसाब से किया जाएगा। उन्होंने बताया कि डीयू में आगामी शैक्षिक सत्र से जहां विभागों में प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर और सहायक प्रोफेसर के 1706 स्वीकृत  पद हैं, ईडब्ल्यूएस आरक्षण लागू होने के बाद 427 सीटें बढ़ जाएंगी। इसी तरह से डीयू से संबंध कॉलेजों में 10 हजार से अधिक शिक्षक हैं, ईडब्ल्यूएस आरक्षण लागू होने पर इन कॉलेजों में 2500 सीटों की बढ़ोतरी होने की संभावना है।

केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की सीटों को जल्द से जल्द भरने के लिए एमएचआरडी/ यूजीसी ने विश्वविद्यालयों को सर्कुलर जारी कर रोस्टर रिकास्ट कर पदों को भरने के निर्देश दिए हैं। यदि सभी केंद्रीय विश्वविद्यालय अपना रोस्टर रिकास्ट करके लायजन ऑफिसर से रोस्टर पास करा लेते हैं तो इन पदों को आगामी शैक्षिक सत्र से पहले विज्ञापित कर भरा जा सकता है।

Related Stories:

RELATED ईडब्ल्यूएस कोटे से दाखिला देने में आनाकानी कर रहे प्राइवेट स्कूल