बुजुर्ग शिक्षक को अपना हक हासिल करने के लिए लगे 23 वर्ष

हिमाचलप्रदेश में रिटायर हो चुके बुजुर्ग शिक्षक ने अपना हक हासिल करने के लिए 23 वर्षों तक जंग लड़ी और जब यह जंग जीती और अब जब लाभ देने की बारी आई तब उन्हें शिक्षा विभाग तंग कर रहा है। यह कहानी हिमाचल प्रदेश के मंडी के 83 वर्षीय देवी रूप शर्मा की है। इन्हें वित्तीय लाभ देने के आदेश कोर्ट ने तो जारी कर दिए हैं लेकिन इन आदेशों का शिक्षा विभाग के अधिकारी मजाक बनाए बैठे हैं।

 

83 वर्ष की उम्र में शरीर भी साथ नहीं देता और ऐसे में एक बुजुर्ग शिक्षक को अपना हक हासिल करने के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। मंडी जिला के खलियार निवासी देवी रूप शर्मा वर्ष 1994 में शिक्षा विभाग से बतौर पीटीआई रिटायर हुए। वर्ष 1956 में बतौर पीटीआई ही भर्ती हुए और 37 वर्षों की सेवा के बाद इसी पद से रिटायर भी हुए क्योंकि सरकार ने इस पद के लिए प्रमोशन का कोई प्रावधान नहीं कर रखा था।

 

शिक्षक रहते ही देवी रूप शर्मा सहित इस वर्ग के अन्य शिक्षकों ने अपने हक की लड़ाई लड़ना शुरू किया। राज्य सरकार ने 1 अप्रैल 1999 को आदेश जारी किए कि जिन शिक्षकों की सेवा 20 वर्ष से अधिक हो जाएगी उन्हें दो वेतन वृद्धियों का लाभ दिया जाएगा। सरकार के इस आदेश के बाद रिटायर हो चुके देवी रूप शर्मा सहित अन्य शिक्षक कोर्ट की शरण में चले गए और रिटायर हो चुके शिक्षकों पर भी इन आदेशों को लागू करवाने की गुहार लगाई।

 

हाईकोर्ट और फिर ट्रिब्यूनल कोर्ट ने रिटायर शिक्षकों के हक में फैसला सुनाते हुए शिक्षा विभाग को तीन महीनों के भीतर मामला सुलझाने के आदेश दिए। मई 2017 को कोर्ट ने यह आदेश सुनाया था, लेकिन 2018 बीतने को आ गया और अभी तक इन्हें इनका हक नहीं मिल पाया है। 83 वर्षीय देवी रूप शर्मा बताते हैं कि विभाग के अधिकारी उन्हें एक कार्यालय से दूसरे कार्यालय जाने का फरमान सुनाकर अपना पल्ला झाड़ रहे हैं लेकिन सुनवाई कोई भी नहीं कर रहा है।

 

देवी रूप शर्मा ने कोर्ट के बाद अपना हक पाने के लिए राष्ट्रपति और राज्यपाल तक को खत लिखे। वहां से भी शिक्षा विभाग को मामला सुलझाने के आदेश जारी हुए, लेकिन शिक्षा विभाग इस मामले पर कोई संज्ञान नहीं ले रहा है। देवी रूप शर्मा बताते हैं कि 83 वर्ष की उम्र में बार-बार कार्यालयों के चक्कर काटना उनके लिए संभव नहीं और अब इतना सामर्थ्य भी नहीं बचा। इन्होंने सरकार और शिक्षा विभाग से मांग उठाई है कि जो इनका जायज हक बनता है उसे समय रहते अदा करें।

 

देवी रूप शर्मा की तरह और भी कई सेवानिवृत कर्मचारी हैं जिनके मामले कोर्ट के आदेशों के बाद भी संबंधित विभागों के पास लंबित पड़े हुए हैं। देवी रूप ही बताते हैं कि उनके साथ हक की लड़ाई लड़ रहे अन्य रिटायर शिक्षक दिवंगत हो चुके हैं। अब ऐसे में शायद शिक्षा विभाग इनकी उम्र को देखते हुए मामले पर ढील बरत रहा है लेकिन सवाल यह है कि न्यायलय के आदेशों की भी अगर इसी तरह से अवहेलना होती रही तो फिर न्याय मिलेगा कहां?

Related Stories:

RELATED सरकारी नौकरी पाने का मौका, 11 अक्टूबर है अंतिम तिथि