जनवरी-अगस्त के दौरान देश का कॉफी निर्यात 2.62 लाख टन पर स्थिर

नई दिल्लीः रोबस्टा किस्मों तथा इंस्टैंट कॉफी के निर्यात में कमी आने से देश का कॉफी निर्यात इस साल की जनवरी-अगस्त अवधि के दौरान 2,62,764 टन पर स्थिर रहा है। कॉफी बोर्ड ने इसकी जानकारी दी है। पिछले साल इसी दौरान 2,63,269 टन कॉफी का निर्यात किया गया था। भारत एशिया में कॉफी का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक एवं निर्यातक देश है।

बोर्ड के आंकड़ों के अनुसार, कॉफी का निर्यात मूल्य एवं मात्रा दोनों हिसाब से स्थिर रहा है। आलोच्य अवधि के दौरान मूल्य के आधार पर कुल कॉफी निर्यात पिछले साल के 4,360.34 करोड़ रुपए की तुलना में इस साल 4,243.77 करोड़ रुपए रहा है। आंकड़ों के अनुसार, सबसे ज्यादा 62,937 टन कॉफी का निर्यात इटली को किया गया है। इसके बाद जर्मनी को 22,339 टन, बेल्जियम को 15,571 टन, रूस को 14,927 टन और इंडोनेशिया को 11,961 टन कॉफी निर्यात किया गया।

कुल कॉफी निर्यात में रोबस्टा किस्म का निर्यात 11 फीसदी कम होकर पिछले साल के 1,55,474 टन की तुलना में 1,38,317 टन रह गया। इंस्टैंट कॉफी का निर्यात भी इस दौरान 34,089 टन से कम होकर 19,106 टन पर आ गया। हालांकि अरेबिका किस्म का निर्यात इस दौरान 19.07 फीसदी बढ़कर 36,673 टन की तुलना में 43,668 टन पर पहुंच गया। इस दौरान कॉफी का पुर्निनयात 36,791 टन से बढ़कर 61,439 टन पर पहुंच गया। सीसीएल प्रॉडक्ट्स इंडिया, एलनसंस प्राइवेट लिमिटेड, ओलम एग्रो इंडिया, कॉफी डे ग्लोबल लिमिटेड और टाटा कॉफी शीर्ष निर्यातक रहे हैं। विपणन वर्ष 2017-18 के दौरान देश का कुल कॉफी उत्पादन 3,16,000 टन रहा है।     

 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED भारत का कॉफी उत्पादन बाढ़ के कारण 20% घट सकता है