जल्द ही शुरू होगी डिजिटल यात्रा, आपका फेस ही होगा फ्लाइट टिकट

नई दिल्लीः/जालंधर:एयरपोर्ट पर अब लम्बी कतारों से मुक्ति मिलने जा रही है। घरेलू हवाई यात्रा के लिए न हवाई टिकट की जरूरत होगी, न आई.डी. प्रूफ और न ही बोर्डिंग पास की। आपका चेहरा (फेस) ही आपकी आई.डी. होगी। यानी कि आपका फेस ही आपकी फ्लाइट टिकट होगी। यह संभव होगा डिजीटल यात्रा से। इसमें फेस स्कैनर सिस्टम से एक बार रजिस्ट्रेशन कराना होगा और उसके बाद हवाई याात्रा पेपरलैस बन जाएगी। इसकी शुरूआत अगले साल जनवरी से हो सकती है। ऐसा करने वाला पहला एयरपोर्ट वाराणसी होगा। पेपरलैस यात्रा को डिजीटल यात्रा का नाम दिया गया है। 


पेपरलैस यात्रा के शुरू होने पर न पैसेंजरों को कतार में लगकर टिकट की जांच करानी होगी और न ही पहचान का दस्तावेज सुरक्षा कर्मी को दिखाना होगा। वाराणसी के बाद पहले फेज में जुलाई तक अन्य एयरपोर्ट पर यह सुविधा शुरू होगी। इनमें कोलकाता, विजयवाड़ा और पुणे भी शामिल है। इसके बाद अगले फेज में देश के अन्य एयरपोर्ट पर यह सुविधा शुरू की जाएगी। 

जयंत सिन्हा ने की थी प्लानिंग
डिजीटल यात्रा की प्लानिंग कुछ माह पहले नागरिक विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने की थी। तभी से मंत्रालय इस दिशा में काम कर रहा है। हालांकि, पहले यह सिस्टम आधार पर आधारित बनाया जाना था, चूंकि कई एयरपोर्ट प्राइवेट हैं इसलिए आधार डाटा सुरक्षित रखने के लिए अब चेहरे की पहचान को आधार बनाया जााएगा। एयरपोर्ट की हर एंट्री पर ऐसे स्कैनर होंगे जो यात्री के चेहरे से उसे पहचानेंगे और डाटा से खुद ही जांचेंगे कि उस यात्री की हवाई यात्रा का टिकट बुक है। एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया के अधिकारियों का कहना है कि इस सिस्टम के लिए सभी एयरपोर्ट मिलकर ज्वायंट वैंचर कम्पनी बनाएंगे। इस पूरे सिस्टम के लिए अगले कुछ दिनों में सरकार प्रस्ताव लाएगी। 

Related Stories:

RELATED अगस्त में 244.81 करोड़ डिजिटल लेनदेन हुए, 2 साल में आंकड़ा हुआ 3 गुना