पेमेंट्स बैंक के बाद इंश्योरेंस कंपनी खोलेगा डाक विभाग

नई दिल्ली:संचार मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा है कि पेमैंट्स बैंक और पार्सल डायरैक्टोरेट के बाद डाक विभाग अगले 2 साल में इंश्योरैंस कंपनी की शुरूआत करेगा। सिन्हा ने कहा, ‘‘डाक विभाग अपना कलेवर बदल रहा है। पार्सल डायरैक्टोरेट और पेमैंट्स बैंक के रूप में अपने कार्य को विस्तार देने के बाद इंश्योरैंस कंपनी के गठन का फैसला किया गया है।’’ सिन्हा ने कहा कि आगामी सप्ताहों में इंश्योरैंस यूनिट के लिए कंसल्टैंट नियुक्ति को लेकर प्रस्ताव लाया जाएगा। 

प्रधानमंत्री ने 1 सितम्बर को इंडिया पोस्ट पेमैंट्स बैंक (आई.पी.पी.बी.) को लॉन्च किया। इसका उद्देश्य बैंकिंग सेवा को घर-घर पहुंचाना है। 3 लाख पोस्टमैन और ग्रामीण डाक सेवक लोगों को उनके घर जाकर वित्तीय सेवाएं देंगे। अप्रैल में डी.ओ.पी. ने पार्सल डायरैक्टोरेट की शुरूआत की, जो पार्सल और लॉजिस्टिक्स बिजनैस को बढ़ावा देने के लिए तेजी से फैसले ले सकता है। पहले पार्सल रेट, भारी डील और स्पैशल स्कीम के लिए लंबी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता था। 

मौजूदा समय में पोस्टल डिपार्टमैंट सरकारी और अर्ध-सरकारी कर्मचारियों को सबसे पुराने लाइफ इंश्योरैंस में से एक ‘पोस्टल लाइफ इंश्योरैंस’ (पी.एल.आई.) उपलब्ध करा रहा है, जिसकी शुरूआत 1884 में हुई थी। इसके बाद मार्च 1995 में ग्रामीण इलाकों में रहने वाले कमजोर वर्ग के लिए ‘रूरल पोस्टल लाइफ इंश्योरैंस (आर.पी.एल.आई.)’ स्कीम की शुरूआत की गई। 31 मार्च 2017 तक देश में 46.8 लाख लोगों के पास पी.एल.आई. और 146.8 लाख लोगों के पास आर.पी.एल.आई. पॉलिसी थी। सिन्हा ने इस साल पी.एल.आई. को प्रोफैशनल्स के लिए भी खोलने की घोषणा की थी। 

Related Stories:

RELATED शक के घेरे में पीएम मोदी की लोन स्कीम, शर्तें तोड़कर ठेका, कंगाल कंपनी को करोंडो का फायदा