रुपए में गिरावट का दौर जारी, तो क्या 73 का हो जाएगा 1 डॉलर?

बिजनेस डेस्कः भारतीय रुपए में गिरावट का दौर जारी है। मंगलवार को एक बार फिर से रुपए ने रिकॉर्ड निचला स्तर छुआ है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी से डॉलर का भाव बढ़कर 71.28 रुपए तक चला गया जो अबतक का सबसे महंगा भाव और रुपए का डॉलर के सामने सबसे निचला स्तर है।

विशेषज्ञों के अनुसार अगले कुछ दिनों में भी रुपए में सुधार की गुंजाईश कम ही दिखाई दे रही है। आने वाले दिनों में रुपया और फिसल सकता है। वहीं, यह भी आशंका जताई जा रही है कि अमेरिकी डॉलर की मांग ऐसे ही बढ़ती रही तो दिसंबर तक रुपया एक डॉलर के मुकाबले 73 के स्तर पर पहुंच सकता है।

रुपए के लगातार कमजोर होने से सबसे ज्यादा असर पैट्रोल-डीजल के दामों पर पड़ेगा। देश में खाने-पीने की चीजों और दूसरे जरूरी सामानों के ट्रांसपोर्टेशन के लिए डीजल का इस्तेमाल होता है। ऐसे में डीजल महंगा होते ही इन सारी जरूरी चीजों के दाम बढ़ेगा। वहीं, रुपए में लगातार गिरावट से सरकार की बैलेंसशीट बिगड़ सकती है। दूसरी ओर इससे देश में महंगाई बढ़ने का भी खतरा बढ़ गया है। ऐसे में कच्चा तेल 2019 में आम चुनाव के पहले सरकार के लिए परेशानी खड़ी कर सकता है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!