पेयजल टैंक में मरा हुआ सांप मिलने से हड़कंप, ग्रामीणों ने विभाग को दी ये चेतावनी

बालीचौकी: सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग उपमंडल बालीचौकी के तहत आने वाली पंचायत कशौड़ में पानी के टैंक से सांप निकलने पर हड़कंप मच गया है। विभाग के अधिकारी जहां कर्मचारियों को इसके लिए जिम्मेदार बता रहे हैं तो वहीं कर्मचारी अपने आप को बचने के लिए कई प्रकर के बहाने बना रहे हैं। बताते चलें कि संबंधित टैंक से पंचायत के गांव खिलथाच, पांदली, चनुौणी, कशौड़, सेलेउणी, सेउगी के 300 परिवारों को सप्लाई होती है।

कर्मचारी के कार्य पर पहले भी उठ चुके हैं सवाल

लोगों ने संबंधित टैंक पर लाइन में कार्य करने वाले कर्मी पर पहले भी सेवा को लेकर सवाल उठाए थे लेकिन विभाग द्वारा उनके खिलाफ  भी कोई कार्रवाई नहीं की गई। लोगों ने आरोप लगाया है कि कर्मी टैंक की चाबी टैंक के साथ वाले घरों के लोगों को दे रखता है और ऐसे में यह कर्मी 3-4 महीने के बाद ही मौके पर पहुंचता है। उन्होंने कहा कि यदि विभाग मामले को गंभीरता से नहीं लेता है तो वह मामले की शिकायत राज्यपाल से की जाएगी।

कर्मचारियों को सस्पैंड व अधिकारियों के तबादले की उठाई मांग

उधर, पेयजल टैंक से सांप निकलने पर लोगों का गुस्सा 7वें आसमान पर है तथा वे पानी पीने से भी कतरा रहे हैं। लोगों ने विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों पर बड़ी लापरवाही का आरोप लगाते हुए जहां कर्मचारियों को अपनी सही प्रकार से सेवा न देने पर सस्पैंड करने व अधिकारियों का तबादला करने की मांग  उठाई है। पंचायत कशौड से संबंध रखने वाले फत्ते सिंह, दौलत राम व चंद्रमणि का कहना है कि पंचायत कशौड़धार में बने टैंक की कर्मचारियों ने 4 माह बात सफाई की तो उसमें 5 फुट का मरा हुआ सांप निकला। ग्रामीणों का आरोप है कि उक्त कर्मी अपनी सेवा सही प्रकार से नहीं देता है और टैंक को 3-4 महीनों के उपरांत ही साफ  करता है।

क्या बोले विभाग के अधिकारी

आई.पी.एच. बालीचौकी के अधिकारी संजीव कुमार ने बताया कि अगर इस प्रकार का मामला सामने आया है तो गंभीर मामला है। मामले में संबंधित कनिष्ठ अभियंता से रिपोर्ट तलब करेंगे और दोषी पाए जाने वाले कर्मियों के खिलाफ  कार्रवाई भी की जा सकती है।

Related Stories:

RELATED ट्रंप की चेतावनीः अमेरिका पर हमला किया तो ‘नष्ट'' कर देंगे ईरान