अय्याशी भरी जिंदगी में हर लग्जरी सुविधा का सुख भोगता था दाती महाराज

नई दिल्ली(संजीव यादव) : दाती मदन शनि की कुदृष्टि के प्रकोप को दूर करने के लिए अपने भक्तों को कष्ट सहने की सलाह देता था और लोगों को जमीन-जायदाद और अय्याश जिंदगी से दूर रहने की बात करता था। लेकिन बाबा का कमरा जो उसका शयन कक्ष है उसे देख आपकी आंखें चौंधिया जाएंगी। दाती मदन का शयनकक्ष किसी पंच सितारा होटल से कम नहीं है, उनके कमरे में लग्जरी बैड हो या बाथरूम में लगा बाथटब, सभी चीजें इटली से विशेष तौर पर मंगा कर लगाई गई हैं। यही नहीं, उनके कमरे के बंगले में एक रूम और भी है जिसे प्राइवेट रूम कहा जाता है। बताया जाता है कि अक्सर आने वाले वीवीआईपी और उनके कुछ खास शिष्य इसी रूम में उससे मुलाकात करते थे।
PunjabKesari
जांच में पता चला कि इस रूम में केवल उनके सचिव के अलावा कुछ निजी शिष्या जिन्हें मदन दाती ने दीक्षा दी थी वहीं जा सकती थी। इसके अलावा कोई भी भक्त और परिसर में रहने वाला व्यक्ति उसमें नहीं जा सकता था। यहां तक कि सुरक्षा में तैनात कर्मी भी बाबा को रूम के गेट तक ही छोड़ते थे। दिल्ली क्राइम ब्रांच ने बाबा का ये रूम खोला। इस रूम में आलीशान तस्वीरों के अलावा बैड सहित हर वो लग्जरी सामान मौजूद है जो किसी भी पंच सितारा होटल में होता है। यहीं नहीं कमरे में लगे बड़े एलईडी टीवी के जरिए वह पूरे आश्रम को वहीं से बैठकर देख सकता था, साथ ही वहीं से दिशा-निर्देश भी दे सकता था।
PunjabKesari
क्राइम ब्रांच ने खंगाला बाबा का आश्रम
बुधवार के बाद वीरवार को बाबा के आश्रम क्राइम टीम पहुंची। वहां उन्होंने बाबा के शयनकक्ष के अलावा उन कमरों की छानबीन की जहां शिष्याओं को दीक्षा दी जाती थी। क्राइम ब्रांच के अनुसार दाती महाराज के अलावा शिष्या के साथ दाती मदन के भाई अर्जुन ने भी रेप किया।
PunjabKesari
शिष्याओं से इसी कमरे में बैठक
पीड़ित लड़की ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि जब भी कोई लालबत्ती वाले शख्स या नेता जिनके पास सिक्योरिटी होती थी वहीं उनके शयन कक्ष तक जा सकते थे। 
ऐसा है बाबा का आलीशान कमरा

  • आलीशान बैड, 7 सीटर इम्पोर्टेड सोफा  
  • पूरे कमरे में कालीन, दीवारों में विशेष लाइटें
  • 3 एसी सहित बाथरूम में सोनाबाथ की व्यवस्था 
  • रूम के बगल में एक और विशेष कमरा
  • पीड़ित लड़की के मुताबिक शपथ पत्र में ये होती हैं शर्तें
  • शपथ पत्र देने वालों को स्टांप पेपर पर लिखना होता है कि तन मन धन सब बाबा का है
  • भविष्य में जब भी मैं अपनी स्वेच्छा से आश्रम को छोड़ती हूूं तो भविष्य में आपके खिलाफ शिकायत नहीं कर सकती
  • ट्रस्ट को छोडऩे के बाद मैं बाबा या उनके किसी भी सदस्य के खिलाफ कानूनी कार्रवाई नहीं कर सकती
  • ट्रस्ट को छोडऩे के बाद मेरा किसी भी चीज पर अधिकार नहीं होगा
  • पहले दिन ही लिखना होता है कि चाहे किसी भी परिस्थिति में रहना हो, या फिर किसी भी तरह का कष्ट हो, दीक्षा लेने वालों को सहना होगा
  • ये शर्त भी होती है कि पूजा-अर्चना हो या बाबा की सिद्धि का समय, जिसे बुलाया जाएगा उसे उनके पास जाना पड़ेगा और दिया हुआ कार्य करना पड़ेगा।
    PunjabKesari
    शपथ पत्र में फंस गए हैं बाबा
    नवोदय टाइम्स के पास पीड़ित लड़की का दिया हुआ शपथ पत्र मौजूद है। ये शपथ 4/16 में लिखा गया है, जिस पर पीड़िता के पिता के भी हस्ताक्षर है। यही नहीं शपथ पत्र के साथ स्टांप पेपर भी मौजूद है। लेकिन इस शपथ पत्र में कई ऐसी शर्तें बाबा की तरफ से लिखी गई है जो इशारा करती हैं कि बाबा पर आने वाले समय में कोई शिष्या यौन शोषण समेत किसी भी तरह का आरोप न लगा सके।

    बाबा क्या बोले लगे आरोपों पर 
    बाबा ने सीधे तौर पर बात नहीं की, लेकिन एक बयान जारी कर कहा है कि उनके आश्रम में अभिषेक नाम के शख्स पर पैसों के लेन-देने का आरोप लगाया था और अब जो युवती उन पर रेप का आरोप लगा रही है वह उसके कहने पर लगा रही है। बाबा ने कहा है कि इस अभिषेक पर पुलिस विभाग में एफआईआर भी दर्ज है। बाबा के मुताबिक अभिषेक आश्रम के दिए हुए 90 करोड़ नहीं दे रहा था। जब उससे पैसे मांगे गये तो वह इस कृत्य पर उतारू हो गया।
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!