दाती मदन केस में बरती गई लापरवाही से जज नाराज

नई दिल्ली(पंकज वशिष्ठ ): दाती मदन केस में सब कुछ सही नहीं है, पहले जहां पुलिस की ढिलाई रही, वहीं अब कोर्ट स्टाफ की ढिलाई सामने आई है। दोनों ही मामलों से कोर्ट नाराज है, मामले में कोर्ट ने आदेश दिए हैं कि कोर्ट स्टाफ दिल्ली पुलिस को भेजे गए नोटिस की तामील कराए और दिल्ली क्राइम ब्रांच हर हालत में स्टेटस रिपोर्ट सोमवार को दे। मामले में कोर्ट ने ये भी पूछा है कि क्राइम ब्रांच वह वजह भी बताए जिसके चलते दाती मदन की गिरफ्तारी नहीं की गई। जानकारी के मुताबिक वीरवार को दाती मदन केस में रेप पीड़िता की डाली गई याचिका पर सुनवाई की, उस दौरान पता चला था कि दिल्ली पुलिस को 19 जून को कोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट देनी थी जिसके लिए नोटिस भेजा गया,लेकिन दिल्ली पुलिस ने रिपोर्ट नहीं दी। 
इस पर जब वीरवार को सुनवाई हुई तो पता चला कि क्राइम ब्रांच को नोटिस ही नहीं मिला। जांच की गई तो पता  कि कोर्ट स्टाफ ने इस में लापरवाही बरती थी।  इसी बात को सुनते ही जज नाराज हो गए और उन्होंने वीरवार को स्टेटस रिपोर्ट मांगी,लेकिन दिल्ली पुलिस ने समय मांग लिया जिसके बाद  कोर्ट ने सोमवार तक का समय देते हुए निर्देश दिए हंै कि दिल्ली पुलिस इसमें कोई कोताही न बरते। 
PunjabKesari
कार्यशैली पर उठे सवाल: पीड़िता ने पूरे मामले में दिल्ली पुलिस पर जांच में लापरवाही व लचर कार्यशैली अपनाने का आरोप लगाया है। 19 जून के आदेश का पालन न करने पर अदालत ने दिल्ली पुलिस से लिखित में जवाब भी तलब किया है। साकेत जिला अदालत के समक्ष पीड़िता के वकील वकील प्रदीप तिवारी ने कहा कि दिल्ली पुलिस मामले की जांच को लेकर गंभीर नहीं है। वकील ने अदालत में यह भी कहा कि इस केस में दिल्ली पुलिस शुरूआत से ही जांच व कानूनी कार्रवाई करने में लापरवाही भरा रवैया अपना रही है। दाती मदन के खिलाफ  7 जून को शिकायत दी थी, लेकिन पुलिस ने & दिन के बाद यानि 10 जून को एफआईआर दर्ज की। बलात्कार जैसे गंभीर आरोपों के बाद भी दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दाती मदन को अब तक गिरफ्तार क्यों नहीं किया?
PunjabKesariआखिर क्यों केस में बरती गई ढिलाई?
रेप जैसे केस में दाती मदन को केवल पूछताछ कर छोड़ दिया गया और मामले में फिर स्टेटस रिपोर्ट न बनने से लेकर अब तक उसके छापेमारी सहित बाबा के सवाल के मामले में क्राइम ब्रांच की लापरवाही दिख रही है। सूत्रों के मुताबिक दिल्ली पुलिस के सीनियर अधिकारी दाती मदन के शिष्य हैं और अक्सर वे पूजा-अर्चना में शमिल होते रहे हैं, बताया जाता है कि उनके इशारे पर ही दाती मदन की तरफ दिल्ली पुलिस का कोना नरम है। 
PunjabKesari
देंगे बेगुनाही का सबूत
बीते मंगलवार को दाती मदन से क्राइम ब्रांच ने 5 घंटे से ज्यादा पूछताछ की थी। इस दौरान दाती मदन से 90 से अधिक सवाल पूछे गए थे,जिसमें कई सवालों के जवाब नहीं दिए गए थे इसलिए क्राइम ब्रांच ने उन्हें शुक्रवार को बुलाया है। दाती मदन ने भी प्रेस कॉन्फे्रंस सहित क्राइम ब्रांच को आश्वासन दिया था कि वे उनके हर सवाल का जवाब सबूतों के साथ देंगे। इसलिए क्राइम ब्रांच ने उन्हें जाने दिया। शुक्रवार को उनसे दोबारा क्राइम ब्रांच पूछताछ करेगी। अब देखना है कि दाती मदन उसमें क्या सबूत पेश करते हैं। 
PunjabKesariराजस्थान में भी बढ़ी दाती मदन की मुश्किलें
25 साल की युवती से दुष्कर्म के आरोप में घिरे दाती मदन की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। दाती मदन को राजस्थान राज्य महिला आयोग की जांच का सामना करना पड़ेगा। दाती मदन के आश्रम से बच्चियों के गायब होने की खबरों को देखते हुए राजस्थान राज्य महिला आयोग ने अपनी एक टीम दाती मदन के पाली स्थित आश्रम में भेजने का निर्णय किया है। टीम वीरवार को आश्रम पहुंचेगी। दाती मदन से दुष्कर्म के मामले में दिल्ली पुलिस भी पूछताछ कर चुकी है। आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने कहा है कि आयोग की तीन सदस्यीय टीम दाती मदन के आलावास स्थित आश्रम में जांच के लिए जाएगी। वहां रहने वाली बच्चियों और हालात का जायजा लिया जाएगा। यदि कुछ भी नियमसंगत नहीं मिला तो कार्रवाई की जाएगी। सुमन शर्मा ने कहा है कि आयोग ने एक टीम का गठन कर दिया है। इसमें एक महिला आयोग सदस्य और एक प्रशासनिक अधिकारी समेत तीन लोग शामिल हैं। यह टीम दाती मदन के आश्रम जाकर विभिन्न बिंदुओं पर जांच करेगी। आयोग सदस्य सुषमा कुमावत ने बताया कि आश्रम में रह रही बच्चियों से बात की जाएगी। उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जा रहा है, इसका पता लगाया जाएगा। आश्रम के कर्मचारियों और आसपास के लोगों से भी टीम बात कर वस्तुस्थिति जानने का प्रयास करेगी।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!