धीरे-धीरे कमजोर हो रहा चक्रवात तूफान 'फनी', हवा की रफ्तार 225 से 160 किमी प्रति घंटा हुई

भुवनेश्वरः चक्रवात तूफान 'फनी' ओडिशा में धीरे-धीरे कमजोर पड़ना शुरू हो गया है। सुबह राज्य में 225 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही थीं लेकिन अब यह 160 किलोमीटर प्रति घंटे से चल रही है। बारिश भी धीरे-धीरे कम हो रही है। बता दें कि फनी शुक्रवार सुबह 9 बजे ओडिशा तट से टकराया था जिसके बाद से इसका भयंकर रूप देखने को मिला। ओडिशा और उत्तर प्रदेश में फनी से कुल 6 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि पहले ही चेतावनी जारी होने के कारण कम से कम 11 तटीय जिलों से करीब 11 लाख लोगों को बृहस्पतिवार तक हटा लिया गया। कई पेड़ उखड़ गए और कई घरों की छत्तें भी उड़ गई। वहीं कई इलाकों में बिजली की आपूर्ति भी ठप्प हो गई और संचार सेवाओं पर भी प्रभाव पड़ा।

ओडिशा में भारी नुकसान

  • तूफान फनी से ओडिशा में बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ है और विभिन्न घटनाओं में तीन लोगों की मौत, 160 लोगों के घायल होने की खबर है।  
  • आधिकारिक जानकारी के अनुसार तूफान के कारण पुरी में कच्चे घरों, पुरानी इमारतों और अस्थायी दुकानों को भारी नुकसान पहुंचा है।
  • क्षेत्र में बिजली और संचार नेटवर्क पूरी तरह ठप पड़ गया है।
  • राष्ट्रीय आपदा मोचन बल और राज्य की विभिन्न एजेन्सी सड़कों और अन्य रास्तों से पेड़ों तथा खंभो को उठाने में लगी हैं।   


केंद्र ने दी 1,000 करोड़ की राहत राशि

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वे फनी प्रभावित राज्य सरकारों के संपर्क में हैं और केंद्र की तरफ से इन राज्यों को एक हजार करोड़ की राहत राशि दी गई है। 
  • इस तूफान पर खुद मुख्यमंत्री नवीन पटनायक पैनी नजर बनाए हुए हैं।
     

आपातकालीन नंबर जारी

  • ओडिशा के लिए +916742534177 आपातकालीन नंबर जारी किया गया है इसके अलावा गृह मंत्रालय ने हेल्पलाइन नम्बर 1938 शुरू किया है। विभिन्न जिलों के भी आपातकालीन नंबर इस प्रकार हैः

PunjabKesari

 

PunjabKesari

NDRF की 65 टीमें तैनात

  • तूफान फनी से हुई तबाही के बाद स्थिति से निपटने तथा राहत-बचाव अभियान के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने अपनी पूरी ताकत लगा दी है और कुल 65 टीमों को तैनात किया है।
  • एनडीआरएफ के अनुसार उसने इससे पहले 2013 में फालिन चक्रवाती तूफान के समय राहत बचाव कार्य के लिए 63 टीमों को तैनात किया था।
  • इस बार 65 राहत बचाव टीमों को तैनात किया गया है जिनमें से 38 ओडिशा में, 12 आन्ध्र प्रदेश, 6 पश्चिम बंगाल, अरूणाचल प्रदेश, नागालैंड और मेघालय में एक-एक, जबकि झारखंड, तमिलनाडु और केरल में दो-दो टीमों को तैनात किया गया है।
  • इसके अलावा एनडीआरएफ के विभिन्न बेसों में 48 टीमों को तैयार रखा गया है जिससे कि जरूरत पड़ने पर उन्हें बचाव कार्यों के लिए भेजा जा सके।      


PunjabKesari
भुवनेश्वर और कोलकाता एयरपोर्ट बंद

  • चक्रवात फनी की वजह से भुवनेश्वर आने और जाने वाली उड़ानें तीन मई को ‘रद्द' कर दी गई हैं।
  • डीजीसीए ने कहा कि चक्रवात फनी की वजह से 3 मई से 4 मई के बीच कोलकाता हवाई अड्डे से उड़ानों की आवाजाही बंद रहेगी।

PunjabKesari

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!