किचन पर पड़ेगी महंगाई की मार, जल्द महंगी होगी कुकिंग गैस

नई दिल्ली: जल्दी ही कुकिंग गैस का बिल बढ़ सकता है। नैचुरल गैस और क्रूड की कीमतों में उछाल देखने को मिल रहा है। इसने गैस डिस्ट्रीब्यूशन कम्पनियों की रॉ मैटीरियल कॉस्ट बढ़ा दी है। कीमतों में इस उछाल को डिस्ट्रीब्यूटर्स अब कंज्यूमर पर डालेंगे। आपके किचन पर महंगाई की मार पडऩे वाली है।

रिसर्च फर्म केयर रेटिंग्स की रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल से नैचुरल गैस की कीमतों में 18 प्रतिशत का उछाल देखने को मिल सकता है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि नैचुरल गैस में यह उछाल अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बढ़ती डिमांड की वजह से है। डोमैस्टिक गैस नीति 2014 के अनुसार सरकार हर 6 महीने में नैचुरल गैस की कीमतें तय करती है। पिछले एक साल में कीमतें 2 बार 5.9 और 9.8 प्रतिशत तक बढ़ी हैं। वहीं एक्सपटर््स मानते हैं कि बढ़ौतरी का यह ट्रैंड आगे भी जारी रहेगा।

दूसरी ओर नवम्बर-दिसम्बर में गिरावट के बाद क्रूड के दाम भी तेजी पर हैं। साल की शुरूआत से अब तक क्रूड में 7 प्रतिशत का उछाल आया है जिसका असर एल.पी.जी. की कीमतों पर भी पड़ा है। फरवरी के मुकाबले मार्च में 43 से 45 रुपए तक बढ़त के साथ एल.पी.जी. के दामों में 6.9 प्रतिशत का उछाल देखने को मिला है। दरअसल पी.एन.जी. नैचुरल गैस और एल.पी.जी. क्रूड का बाई-प्रोडक्ट है जिन्हें गैस डिस्ट्रीब्यूशन कम्पनियां एक्सप्लोरर्स से खरीदती हैं। अंतर्राष्ट्रीय कीमतों में उछाल से डिस्ट्रीब्यूटर्स की कॉस्ट बढ़ रही हैं जिसे वे अब कंज्यूमर्स तक पास करेंगे।

Related Stories:

RELATED मार्च महीने में 3.18% की दर से बढ़ी थोक महंगाई