IAS निलंबित मामले में सत्तापक्ष-विपक्ष में बयानबाजी शुरू, कांग्रेस ने सरकार के फैसले को बताया एकतरफा

देहरादूनः उत्तराखंड में एनएच-74 घोटाले में बड़ी कार्रवाई करते हुए मंगलवार को 2 आईएएस अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। इसके बाद से सत्तापक्ष और विपक्ष में आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। सरकार की इस कार्रवाई को जहां भाजपा ने भ्रष्टाचार पर बड़ी चोट बताया है, वहीं कांग्रेस ने सरकार के इस फैसले को एक तरफा कार्रवाई करार दिया है। 

जानकारी के अनुसार, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने सरकार पर हमला करते हुए कहा कि इस मामले की जांच करवाना सही बात है लेकिन 2 आईएएस अधिकारियों पर  कार्रवाई करके सरकार ज्यादा संतुष्ट ना हो, इससे पहले कांग्रेस में एनडी तिवारी की सरकार में 2 आईएएस अधिकारियों को बर्खास्त तक किया जा चुका है। उन्होंने सरकार पर हमला करते हुए कहा कि सरकार के द्वारा सीबीआई जांच की बात कही गई थी लेकिन केंद्र सरकार के मना करने पर सीबीआई जांच को रोक दिया गया। 

वहीं प्रीतम सिंह ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार इस मामले में संलिप्त कुछ बड़े नेताओं और अधिकारियों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। इसी के चलते इस मामले की सीबीआई जांच नहीं करवाई गई और एसआईटी जांच कर दिखावा कर रही है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि एनएच-74 के साथ-साथ एनएच-87 घोटाला भी सामने आया है। सरकार इन दोनों मामलों की सीबीआई से जांच करवाएं। 

Related Stories:

RELATED आज छठ पर्व के तीसरे दिन राज्य सरकार ने किया सार्वजनिक अवकाश का ऐलान