तेलंगाना: TRS को रोकने के लिए कांग्रेस, TDP और CPI ने बनाया महागठबंधन

नेशनल डेस्क: तेलंगाना विधानसभा भंग होने के साथ ही राज्य में राजनीतिक घमासान तेज हो गया है। सत्तारूढ टीआरएस को मात देने के लिए कांग्रेस, तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) ने महागठबंधन बनाने की तैयारी कर ली है। कांग्रेसी नेताओं के अनुसार सभी विपक्षी दलों को एकजुट करने की शुरुआती सहमति के बाद अब सीटों के बंटवारे पर बातचीत चल रही है। 


सीटों के बंटवारे पर हो रही चर्चा
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आरसी खुंटिया के अनुसार टीडीपी से गठबंधन करने में पहले जैसी कड़वाहट नहीं है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में भी कांग्रेस ने अधिक सीट जीतने के बाद भी जेडीएस के नेता को मुख्यमंत्री बनाया। इसी तरह तेलंगाना में भी गठबंधन किया जा सकता है। खुंटिया ने कहा कि हमने अभी सीटों के मुद्दे पर बात नहीं की है लेकिन हम व्यापक स्तर पर गठबंधन का फॉर्मूला तैयार कर रहे हैं।


टीडीपी ने पहली बार कांग्रेस से मिलाया हाथ 
कांग्रेस की ओर से राज्य के प्रभारी राम चंद्र खुंटिया, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भरत रेड्डी और विधानमंडल दल के नेता के. जना रेड्डी सीटों के बंटवारे पर टीडीपी के तेलंगाना प्रदेश अध्यक्ष एल. रमण, सीपीआई के नारायणन और तेलंगाना जन समिति के अध्यक्ष प्रोफेसर एम. कोडंडरम सीटों के बंटवारे में शामिल हैं। बता दें कि टीडीपी के इतिहास में यह पहली बार है जब वह उस कांग्रेस के साथ गठबंधन करने जा रही है जिसके विरोध के नाम पर ही 1982 में उसका गठन हुआ था। सीपीआई पहले भी दोनों दलों के साथ गठबंधन में रह चुकी है। 


चंद्रशेखर राव ने भंग की विधानसभा 
गौरतलब है कि मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव ने जल्द चुनाव कराने के लिए पिछले सप्ताह विधानसभा भंग कर दी थी। चुनाव अब नवंबर में हो सकते हैं। विपक्षी दलों ने टीआरएस प्रमुख के कदम को अलोकतांत्रिक करार दिया है जिसके विरोध में तीनों पार्टियों ने गवर्नर ईएसएल नरसिम्हन को चिट्ठी लिखी थी। इस चिट्ठी में  आरोप लगाया है कि केसीआर अपने संवैधानिक शक्तियों का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं, जिसे राज्य के हित में रोका जाना चाहिए। 

Related Stories:

RELATED तेलंगाना: देश में सबसे ज्यादा सैलरी पाने वाले सीएम राव के पास नहीं है कोई भी कार