377 पर फैसला समाज की दिशा में महत्वपूर्ण कदम: कांग्रेस

नेशनल डेस्क: कांग्रेस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 377 पर वीरवार को आए उच्चतम न्यायालय के फैसले को ‘ऐतिहासिक’ करार देते हुए कहा कि यह ‘उदारवादी एवं सहिष्णु समाज’ की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है।  पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि धारा 377 पर उच्चतम न्यायालय का फैसला ऐतिहासिक है। यह पुराना औपनिवेशिक कानून आज के आधुनिक समय में अप्रसांगिक था। 


सुरजेवाला ने कहा कि मौलिक अधिकारों को बहाल करते हुए और यौन रुझान आधारित भेदभाव को नकारते हुए यह कानून खत्म हुआ। यह उदारवादी, सहिष्णु समाज की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है। उच्चतम न्यायालय की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने वीरवार को एकमत से 158 साल पुरानी भारतीय दंड संहिता की धारा 377 के उस हिस्से को निरस्त कर दिया जिसके तहत परस्पर सहमति से अप्राकृतिक यौन संबंध अपराध था। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने अप्राकृतिक यौन संबंधों को अपराध के दायरे में रखने वाली धारा 377 के हिस्से को तर्कहीन, सरासर मनमाना और बचाव नहीं किये जाने वाला करार दिया।
     

 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!