चीन की नई चालः भारत के खिलाफ नेपाल को लुभाने के लिए चला दांव

काठमांडूः चीन ने एक बार फिर भारत के खिलाफ दांव खेलते हुए अपने चार बंदरगाहों का उपयोग करने की इजाजत दे दी है। नेपाल के वाणिज्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि नेपाल चीन के साथ अपना व्यापारिक संपर्क बढ़ाना चाहता है। 
PunjabKesari

मंत्रालय ने बताया कि नेपाल और चीन के अधिकारियों के बीच आज यहां हुई बैठक के दौरान चीन के तियांजिन, शेंझन, लियायुंगांग तथा झांजियांग बंदरगाह का उपयोग नेपाल के करने को लेकर मसविदे को अंतिम रूप दिया गया। इसके अलावा चीन ने लांझओउ, ल्हासा तथा जिगेट्से माल गोदामों (ड्राई पोट्रस) का नेपाल के इस्तेमाल के करने पर भी सहमति जताई। 

PunjabKesari

एक अधिकारी ने बाताया कि दोनों देशों के बीच मसविदा पर हस्ताक्षर हो जाने के बाद यह व्यवस्था प्रभावी हो जाएगी।  वाणिज्य मंत्रालय के अधिकारी रवि शंकर ने कहा, ''यह एक मील का पत्थर है क्योंकि भारत के दो बंदरगाहों के अलावा हमें चीन के चार बंदरगाहों का इस्तेमाल करने करने की इजाजत मिलने जा रही है।'' उन्होंने बताया कि जापान, दक्षिण कोरिया, उत्तर कोरिया तथा उत्तरी एशियाई देशों से माल लदे जहाज चीन के रास्ते नेपाल आ सकते हैं जिससे समय और लागत की बचत होगी। अभी तक इन देशों से सामान भारत के पू्र्वी तट कोलकाता के रास्ते नेपाल पहुंचता है। 

PunjabKesari
भारत ने नेपाल के व्यापार के लिए दक्षिणी तट पर विशाखापट्टनम को खोल दिया है।  उल्लेखनीय है कि नेपाल अभी तक तेल और अन्य जरूरी सामानों के आयात पर चीन से अधिक भारत पर निर्भर करता है लेकिन नेपाल अब चीन के बंदरगाहों का उपयोग करके भारत पर निर्भरता को कम करना चाहता है। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!