चीनी अर्थव्यवस्था में मंदी के संकेत, 28 सालों के निचले स्तर पर GDP

बीजिंगः चीन की आर्थिक विकास दर साल 2018 में 6.6 फीसदी रही, जो 28 वर्षों का निचला स्तर है। दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था की यह हालत मौजूदा समय में अमेरिका के साथ ट्रेड वॉर और निर्यात में भारी गिरावट की वजह से हुई है। दिसंबर तिमाही में अर्थव्यवस्था की रफ्तार 6.4 फीसदी रही, जो पिछले साल की समान अवधि में 6.5 फीसदी की तुलना में कम है। आंकड़ा अनुमानों के अनुरूप है, लेकिन यह दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के विकास में आई सुस्ती को रेखांकित करता है।

चीन के नेशनल ब्यूरो ऑफ स्टैटिस्टिक्स (एनबीएस) ने सोमवार को घोषणा की कि साल 2018 में चीन की अर्थव्यवस्था 6.6 फीसदी की दर से बढ़ी। एनबीएस के आंकड़ों के मुताबिक, साल 2018 में आर्थिक विकास दर साल 2017 की 6.8 फीसदी की तुलना में कम है और यह साल 1990 के बाद सबसे कम विकास दर है। 1990 में चीन की आर्थिक विकास दर महज 3.9 फीसदी रही थी। साल 2018 की चौथी तिमाही में विकास दर 6.4 फीसदी रही, जो तीसरी तिमाही में 6.5 फीसदी की तुलना में कम है। 

चीन की आर्थिक सुस्ती का असर वैश्विक अर्थव्यवस्था पर पड़ने का चिंता बढ़ गई है। अमेरिका के साथ ट्रेड वॉर की वजह से इसका आर्थिक परिदृश्य कमजोर हुआ है। साल 2018 की शुरूआत से ही चीन और अमेरिका के बीच ट्रेड वॉर जारी है। दोनों देश एक दूसरे के माल पर आयात शुल्क में बढ़ोतरी कर रहे हैं। 

पिछले साल अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के 250 अरब के माल पर आयात शुल्क में 25 फीसदी तक की बढ़ोतरी कर चुके हैं। वहीं अमेरिका के इस कदम के बाद चीन ने अमेरिका के 110 अरब के माल पर आयात शुल्क बढ़ाया। 

Related Stories:

RELATED हिंदुस्तान में बैठे पाक हमदर्दों के आएंगे ‘बुरे दिन’, राजनाथ ने दिए ये संकेत