चीन का सबसे बड़ा अरबपति नहीं करना चाहता भारत में बिजनेस

शंघाईः चीन की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा के टॉप एग्जीक्यूटिव ने हाल ही में कहा कि वह भारत में अभी फ्लिपकार्ट और अमेजॉन जैसी कंपनियों से मुकाबला नहीं करना चाहते। उन्होंने कहा कि भारत का ऑनलाइन मार्केट अभी बिखरा पड़ा है और इसे मैच्योर होने में थोड़ा समय लगेगा। रविवार को अलीबाबा ग्रुप के एग्जीक्यूटिव और को-फाउंडर जोसफ सी साई ने कहा कि भारत एक ऐसा मार्केट है जहां पर हमें सावधानी से चलना होगा। उन्होंने आगे कहा कि भारतीय बाजार को बढ़ने में अभी थोड़ा समय लगेगा।

हाल ही में चीनी ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा ग्रुप होल्डिंग लिमिटेड ने रविवार का सिंगल्स डे की सेल में रिकॉर्ड 30.70 अरब डॉलर यानी 2.20 लाख करोड़ कमाई की। 24 घंटे की इस सेल में दुनियाभर के लोगों ने जमकर खरीदारी की। हालांकि ईवेंट की सालाना वृद्धि दर अब तक की सबसे कम दर्ज की गई। सेल के पहले घंटे में ही लोगों ने तकरीबन 10 अरब डॉलर (72 हजार करोड़ रुपए) का सामान खरीद डाला। 1 अरब डॉलर की कमाई सिर्फ 82 सेकंड में हो गई।

हर साल आयोजित होती है ये सेल
चीन में हर साल 11 नवंबर को सिंगल्स डे मनाया जाता है। इस दिन चीनी ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा ग्रुप सिंगल्स डे सेल का आयोजन करती है। चीन के सबसे अमीर व्यक्ति जैक मा की कंपनी अलीबाबा दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी है और सिंगल्स डे दुनिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन सेल्स ईवेंट है। अमेरिकी शॉपिंग हॉलीडे ब्लैक फ्राइडे और साइबर मंडे की मिलीजुली कमाई से कहीं अधिक कमाई इस ईवेंट में होती है। 

भारत का ई-कॉमर्स मार्केट अभी 20 अवरब डॉलर पर ही पहुंच पाया
अलीबाबा के को-फाउंडर जोसफ साई ने बताया कि भारत का ई-कॉमर्स मार्केट अभी 20 अवरब डॉलर पर ही पहुंच पाया है और यह चीन के मुकाबले काफी पीछे है। इसके साथ ही उन्होंने कहा, भारत के अलग-अलग राज्यों में  अलग-अलग नियम कानून हैं। इसके अलावा अलीबाबा भारत में पेमेंट बिजनेस पर भी फोकस करेगा। अलीबाबा ग्रुप के सीईओ डेनियल जैंग ने कहा कि यदि भारत के बाजार में प्रवेश करना है तो इस बात का ध्यान रखना होगा कि हम पेमेंट्स को कितनी महत्वता दे रहे हैं। साई ने यह भी कहा कि पेमेंट बिजनेस में हिस्सेदारी से हमें मार्केट को जानने में मदद मिली है।

Related Stories:

RELATED चीन, अमेरिका के वार्ताकारों ने की व्यापार वार्ता की समयसारिणी पर बातचीत