बाढ़ प्रभावित केरल की करेंगे हर संभव मदद: केंद्र सरकार

नेशनल डेस्क: केरल सरकार ने शुक्रवार को फैसला किया कि पिछले महीने आई भीषण बाढ़ के बाद जमीनी स्तर पर जैवविविधता को हुए नुकसान का आकलन कराया जाएगा। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के कार्यालय ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा कि जैव विविधता को हुए नुकसान के आकलन और इस पर तथा परिस्थितिकी तंत्र पर पड़े प्रभाव के अध्ययन के लिये आंकड़े जुटाने का काम एक महीने में पूरा कर लिया जाएगा।  

बाढ़ के प्रभाव का करेंगे आकलन 
पोस्ट में कहा गया कि केरल राज्य जैव विविधता बोर्ड स्थानीय निकायों की जैवविविधता प्रबंधन समितियों की सहायता से बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित जिलों में यह अध्ययन करेगा। मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा कि इसके नतीजों का इस्तेमाल राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय फंडिंग एजेंसियों की मदद से सतत विकास की व्यापक योजनाओं को बनाने में किया जाएगा। बड़ी संख्या में भूस्खलन और भीषण बाढ़ की वजह से राज्य में बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ है। राज्य में 29 मई को मानसून की दस्तक के बाद से मरने वालों का आंकड़ा 491 तक पहुंच गया है।

पुर्निवकास कार्यों के लिए की जाएगी मदद 
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा ने बताया कि त्रिचुर जिले में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के अपनी दौरे के दौरान केंद्र सरकार ने केरल की संवेदनशील स्थिति को समझा है। उन्होंने कहा कि कोष की कोई समस्या नहीं है और केंद्र हमेशा धन देता रहा है। संबंधित क्षेत्रों में पुर्निनर्माण और पुर्निवकास कार्यों के लिए हरसंभव मदद की जा रही है।  मंत्री ने कहा कि वह प्रभावित क्षेत्रों में किये जा रहे पुनर्वास और पुर्निनर्माण कार्यों का राज्य सरकार के साथ मूल्यांकन करेंगे।  
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!