Kundli Tv- कब मनाई जाती है विवाह पंचमी ?

ये नहीं देखा तो क्या देखा(video)
बुधवार दिनांक 12.12.18 मार्गशीर्ष शुक्ल पंचमी पर विवाह पंचमी मनाई जाएगी। रामचरितमानस में गोस्वामी तुलसीदास के अनुसार इस दिन भगवान राम और माता सीता का विवाह हुआ था। जब राजा जनक ने सीता विवाह के लिए स्वयंवर रचाया और जिसमें सभी राज्य से आए प्रतिनिधि भगवान शिव का धनुष नहीं उठा पाए, तब श्रीराम ने ऋषि विश्वामित्र की आज्ञा से शिव धनुष तोड़कर जनक का संताप मिटाया था। इसके बाद माता सीता ने श्रीराम के गले में जयमाला डालकर उन्हें अपने वर के रुप में चुना था। श्रीरामचरितमानस में ऐसा वर्णन है कि इस मौके पर सभी देवगणों ने आकाश से पुष्प वर्षा कर सियाराम का अभिवादन किया। अतः यह दिन अत्यंत मांगलिक है। विवाह पंचमी का दिन शादी ब्याह, मंगनी व रोके के लिए विशेष मुहूर्त भी है। इस दिन सीता-राम के विशेष पूजन, उपाय व अनुष्ठान से सुंदर जीवनसाथी प्राप्त होता है। विवाह में आ रही बाधा खतम होती है व अविवाहितों का शीघ्र विवाह होता है।


विशेष पूजन विधि: घर की पूर्व दिशा में चौकी पर हरा कपड़ा बिछाएं। कपड़े पर हरे मूंग की ढेरी पर कांसे का लोटा रखें। लोटे में जल दूध, सिक्के, सुपारी, इत्र डालें तथा लोटे के मुख पर आम के पत्तों पर नारियल रखकर सियाराम कलश स्थापित करें। साथ ही श्री रामदरबार का चित्र रखकर विधिवत पूजन करें। गाय के घी में सूखा धनिया डालकर दीप करें। मोगरे से धूप करें, रामजी पर गोलोचन से तिलक कर पीले फूल के साथ तुलसी पत्र चढ़ाएं तथा सीता माता पर आलता, हल्दी, मेहंदी, सिंदूर लाल चुनरी आदि का 16 श्रृंगार चढ़ाएं। लाल सफ़ेद व पीले फूल चढ़ाएं, पिस्ता की बर्फी का भोग लगाएं तथा तुलसी की माला से इस विशेष मंत्रों का 1-1 माला जाप करें। पूजन के बाद भोग प्रसाद के रूप में वितरित करें।

दिवस पूजन मुहूर्त: सुबह 10:45 से दिन 11:45 तक है।

संध्या पूजन मुहूर्त: शाम 17:15 से शाम 18:15 तक।

निशिता पूजन मुहूर्त: रात 23:47 से रात 00:43 तक।

राम पूजन मंत्र: ॐ रामोत्तमायै नमः॥

सीता पूजन मंत्र:ॐ सीतायै नमः॥

रामसीता युगल मंत्र: श्रीं सीता-रामाय नमः॥

स्पेशल टोटके:
विवाह बाधा दूर करने के लिए:
श्रीराम-सीता पर चढ़े केसर से नित्य तिलक करें।

सुंदर जीवनसाथी पाने के लिए: श्रीराम-सीता पर 43 दिन लगातार आलता चढ़ाएं।

शीघ्र विवाह के लिए:श्रीराम-सीता पर चढ़ी साबुत हल्दी हरे कपड़े में बांधकर बेडरूम में रखें।

गुडलक के लिए: सीता-राम पर चढ़े मिश्री-तुलसी का सेवन करें।

विवाद टालने के लिए: सीता-राम पर चढ़े मूंग कपूर से जला दें।

नुकसान से बचने के लिए:तुलसी की माला से "ॐ रामप्रियायै नमः" मंत्र का जाप करें।

प्रोफेशनल सक्सेस के लिए: सीता-राम पर चढ़े 11 सिक्के वर्कप्लेस की दराज़ में रखें।

एजुकेशन में सक्सेस के लिए:सीता-राम पर चढ़े गोलोचन से नोटबुक पर टीका करें।

फैमिली हैप्पीनेस के लिए: संध्या के समय सीता-राम की कपूर जलाकर आरती करें।

लव लाइफ में सक्सेस के लिए: सीता-राम पर चढ़ा हरा धागा लेफ्ट हैंड की कलाई पर बाधें।

आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com
विधवा औरत को क्यों पहनाई जाती है सफेद साड़ी ?(video)

Related Stories:

RELATED Kundli Tv- आज का पंचांग: 9 जनवरी, 2018