सोशल मीडिया पर एक डरावनी तस्वीर, जो बच्चों के लिए बन रही है खतरा

नई दिल्ली(नवोदय टाइम्स) : ब्लू व्हेल गेम के बाद स्कूली बच्चों के लिए खतरा बन रहे मोमो चैलेंज को लेकर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड हरकत में आ गया है। बोर्ड ने स्कूलों को इस गेम से बच्चों को सतर्क करने को कहा है। स्कूलों को कहा गया है कि वह इस गेम से बच्चों को बचाने के लिए ऐहतियाती कदम उठाएं। इसके लिए बोर्ड ने इलेक्ट्रॉनिक्स व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की एडवाइजरी का हवाला दिया है। मोमो चैलेंज गेम खेलने वालों को अज्ञात लोगों से बात कर चुनौती देने को कहा जाता है। खेल के अंत में आत्महत्या करने की स्थिति बना दी जाती है। जो यह खेल खेलते हैं वह बच्चे हिंसक हो जाते हैं। जो बच्चे इस खेल के निर्देशों को मानने से इनकार करते हैं, उन्हें अलग-अलग तरीकों से डराने का प्रयास किया जाता है। बोर्ड ने स्कूलों से कहा है कि वह बच्चों पर नजर बनाए रखें कि वह इस खतरनाक खेल से न जुड़ें।  अब तक राजस्थान व पश्चिम बंगाल में मोमो चैलेंज के चलते तीन छात्रों की मौत हो चुकी है। 

क्या है मोमो चैलेंज 
अगर एक डरावनी तस्वीर, जिसकी दो बड़ी-बड़ी हल्के पीले रंग की गोल आखें जोकि एक डरावनी मुस्कान लिए हों और जिस तस्वीर की टेढ़ी-मेढ़ी नाक हो। अचानक से आपके व्हाट्सएप मैसेज पर किसी अनजान नंबर से ऐसी कोई तस्वीर आए तो जरा संभल जाएं। उसका जवाब न दें। ये तस्वीर दरअसल एक गेम चैलेंज का हिस्सा हो सकती है, जो इन दिनों सोशल मीडिया पर चर्चा में है। इस गेम चैलेंज का नाम है-मोमो चैलेंज। ये एक मोबाइल गेम है जो हमारे दिमाग के साथ खेलता है, डर का माहौल बनाता है और फिर जान ले लेता है। इस जानलेवा गेम की शुरुआत एक व्हाट्सएप रिक्वेस्ट से होती है। मोमो गेम व्हाट्सएप का एक कॉन्टेक्ट नंबर है, जो व्हाट्सएप पर ही शेयर किया जा रहा है। नंबर को शेयर और एड करने के बाद एक डरावने चेहरे वाली एक लड़की की तस्वीर सामने आती है। इस ऑनलाइन खेल का लिंक वाट्सएप के जरिए सबसे ज्यादा शेयर किया जा रहा है। गेम में आपको लगातार फोन पर अलग-अलग तरह के टास्क दिए जाते हैं, जिन्हें यूजर को पूरा करना होता है। इसमें कई तरह के टास्क को पूरा करते हुए आखिरी में आत्महत्या का टास्क भी मिलता है।

मोमो चैलेंज खेलने वाले के लक्षण

  • दोस्तों और परिवार से दूरी बनाना
  • हमेशा परेशान और दुखी रहना
  • छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा होना
  • किसी भी काम में मन न लगना
  • परेशानी की वजह से कोई काम न कर पाना
  • शरीर के किसी भी हिस्से पर चोट या कट का निशाना होना
  • अपने व्हाट्सएप या मोबाइल फोन पर किसी अज्ञात नंबर पर बात न करें। न ही ऐसे नंबर को सेव करें
  • व्हाट्सएप नंबर सिर्फ विश्वसनीय लोगों को ही दें
  • यदि कोई आपको मोमो की फोटो भेजे या उससे संबंधित कोई काम करने को कहे तो नंबर को तुरंत ब्लॉक कर दें। कोई जवाब न दें। पुलिस को सूचित करें
  • माता-पिता व स्कूल के शिक्षक बच्चों की देखरेख करते रहें कि वह इंटरनेट पर क्या कर रहे हैं। कोई संदिग्ध चीज पाए जाने पर बच्चों को तुरंत रोकें।
  • यदि आपके बच्चो में व्यवहारिक, मनोवैज्ञानिक, असामान्य बदलाव या दबाव दिखाई दे तो तुरंत कारण जानने की कोशिश करें।

Related Stories:

RELATED एंड्रयू जानस्टन ने जीता हीरो चैलेंज