Kundli Tv- सूर्य के नाम जलाएं ये दीये, सफलता में लगेंगे चार चांद

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)
ज्योतिष के अनुसार जिस किसी की कुंडली में सूर्य अशुभ स्थिति में होता है उसे अधिक मेहनत करने पर भी सफलता हासिल नहीं होती। ज्योतिष शास्त्र की मानें तो कभी-कभी इसका कारण इंसान का दुर्भाग्य भी होता है। लाख कोशिशों के बाद भी जब अपने काम में सफल न हो पाएं तो व्यक्ति निराश होने लगता है। कईं बार तो लोग निराशा के कारण प्रयत्न करना ही छोड़ देते हैं। इन सभी के चलते इंसान को बहुत सी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। तो अगर आपके साथ भी एेसा कुछ हो रहा है तो आईए आपको बताते हैं आखिर आपके साथ एेसा क्यों होता है और इससे आप अपना कैसे बचाव कर सकते हैं। 
PunjabKesari
ज्योतिष आचार्य के अनुसार व्यक्ति के जीवन में सफलता और प्रतिष्ठा का कारक ग्रह सूर्य को माना जाता है। सृष्टि पर सूर्य ग्रह का असर व्यापक रूप में देखने को मिलता है। सूर्य के प्रकाश के बिना जीवन संभव ही नहीं है। ज्योतिष शास्त्र में माना जाता है कि अगर किसी जातक की कुंडली में सूर्य अच्छी स्थिति में हो तो जातक को यश, मान, कीर्ति और प्रतिष्ठा वगैरह प्राप्त होता है। वहीं कुंडली में खराब सूर्य के लक्षण हो तो व्यक्ति को सरदर्द, बुखार, हृदय से जुड़ी समस्या और आंखों की समस्या आदि हो सकती है।
PunjabKesari
जिस किसी जातक की कुंडली में सूर्यदेव की स्थिति खराब हो वयक्ति को हर काम में असफलता मिलती है और व्यक्ति के मान-प्रतिष्ठा में भी कमी आती है। अगर आपको भी किसी भी काम को करने में बहुत कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है, तो आप कुछ सरल उपाय कर सकते हैं। सूर्य से संबंधित सरल उपाय करने से किसी का भी बुरा समय दूर हो सकता है। ऐसा ही एक उपाय है, सूर्यदेव के सामने 4 अलग-अलग तरह के तेल के दीपक जलाना और 1 मंत्र बोलना। इस उपाय से न सिर्फ आपका दुर्भाग्य दूर हो सकता है, बल्कि धन लाभ और सौभाग्य भी मिल सकता है।
PunjabKesari
दुर्भाग्य दूर कर सौभाग्य बढ़ाने के लिए सूर्यदेव को महुए के तेल का दीपक लगाएं।

बीमारियों के नाश के लिए सूर्यदेव को घी का दीपक लगाएं। 

सभी तरह की समस्याओं का समाधान पाना चाहते हैं तो सूर्यदेव को तिल के तेल का दीपक लगाएं।

शत्रुओं को पराजित करने के लिए सूर्यदेव को सरसों के तेल का दीपक लगाएं।
PunjabKesari
सुबह स्नान आदि करने के बाद सूर्यदेव की प्रतिमा या चित्र की पूजा करें और सूर्यदेव के समक्ष दीपक जलाएं। इसके बाद इन्हें लाल फूल और गुड़ का भोग अर्पित करें। मंत्र जाप के बाद सूर्यदेव की आरती कर पूजा पूरी करें। दीपक लगाते समय निम्न दिए गए सूर्य मंत्र का जप करें-

नमो धात्रे विधात्रे च अर्यम्णे वरुणाय च।
पूष्णे भगाय मित्राय पर्जन्यायांशवे नम:।।

ऑफिस की नींव रखने से पहले बरतें ये सावधानियां (देखें VIDEO)

× RELATED Kundli Tv- समाज में पाना चाहते हैं HiFi Status तो आज ही घर ले आएं ये