पुलिस के दावे से बुराड़ी केस में आया नया मोड़

नई दिल्ली (महेश चौहान/शाहरूख खान): बुराड़ी के संत नगर में एक परिवार के 11 लोगों की मौत के मामले में भले ही पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है लेकिन भाटिया परिवार के घर से मिले सुबूत और साक्ष्य इस बात की ओर इशारा कर रहे हैैं कि मृतकों का तंत्रमंत्र की तरफ ज्यादा झुकाव था। यही नहीं परिवार तांत्रिक विद्या पर भी विश्वास करता था, इसलिए माना जा रहा है कि मोक्ष की प्राप्ति के लिए अंधविश्वास में ललित और उसकी पत्नी टीना ने परिवार के बाकी 9 सदस्यों की हत्या करने के बाद मौत को गले लगा लिया। पुलिस की जांच भी इसी दिशा में आगे की ओर बढ़ रही है। जांच में यह भी पता चला है कि ललित पर आत्मा आती थी और उसी से छुटकारा पाने के लिए भी तंत्रमंत्र की तरफ परिवार बढ़ गया था।
PunjabKesari
सपने में पिता से बात
रजिस्टर में मौत की कहानी ललित के हाथों से लिखी गई है। रजिस्टर से जो बात सामने आई है वो यह कि ललित के पिता ही उसका मार्गदर्शन कर रहे थे, हालांकि यह हैरान कर देने वाली बात है कि उनके पिता इस दुनिया में नहीं हैं और काफी समय पहले ही उनका देहांत हो गया था। रजिस्टर में लिखी बातों के मुताबिक पिता सपने में आकर ललित को बताते थे कि क्या करना है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि मौके से मिले रजिस्टर में पूरी क्रिया के बारे में लिखा हुआ है। उसमें लिखा है कि खुद अपने हाथ बांधने है। हालांकि क्रिया के बाद इन्हें खोलेगा दूसरा। ललित की बहन के लिए लिखा है कि उसे अलग ग्रील से लटकना चाहिए। सबकी आंखों पर पट्टी बंधी होनी चाहिए। कान में रुई और मुंह पर टेप होनी चाहिए।
PunjabKesari
रजिस्टर में यह भी लिखा है कि ललित की बीमारी दूर हो जाएगी, मैं सब संभाल लूंगा। क्राइम ब्रांच का मानना है कि यहां ‘मैं’ ललित के पिता के लिए लिखा गया है। यह रजिस्टर ललित ही लिखता था। हालांकि इसकी पुष्टि के लिए हैंडराइटिंग जांच करवानी पड़ेगी। बुजुर्ग नारायणी देवी के रिश्तेदार किशोर का दावा है कि यह परिवार किसी गुरु महाराज को नहीं मानता था। वे सभी भगवान कृष्ण के अवतार श्रीनाथजी को मानते हैं, जिनका उदयपुर में मंदिर है। उन्हें खुद यह बात समझ नहीं आ रही है कि आखिर घटना वाली रात ऐसा घर के अंदर क्या हुआ जिसके चलते परिवार के अधिकांश सदस्य फंदे से लटके हुए मिले।
PunjabKesari
आसमान हिलेगा धरती कांपेगी
ललित ने तंत्र के रजिस्टर में लिखा था कि ‘अंतिम समय में आखिरी इच्छा की पूर्ती के वक्त आसमान हिलेगा, धरती कांपेगी, उस वक्त तुम घबराना मत। मंत्रों का जाप बढ़ा देना। मैं आकर तुम सबको उतार लूंगा। औरों को भी उतारने में मदद करुंगा’।
PunjabKesari
कॉल डिटेल से सुराग
पुलिस ने कॉल डिटेल रिकॉर्ड (सीडीआर) निकाले हैं, उसके आधार पर भी कई सुराग पुलिस के हाथ लगे हैं। भाटिया परिवार के लोगों ने 28, 29 और 30 जून को करीब 60 लोगों से बातचीत की थी। सभी से पूछताछ की जा रही है। कुछ बाबा और कई लोगों पर शक गहरा रहा है।
PunjabKesari
वर्ष 2015 से ही चल रहा था आत्मा का चक्कर
पुलिस को घर से दो रजिस्टर मिले हैं उसमें अगस्त 2015 से लिखना शुरू किया गया था। जिसमें 30 जून की शाम तक लिखा गया है। पुलिस की मानें तो ललित पर अपने पिता की आत्मा आती थी। परिवार वालों ने कई बाबाओं से आत्मा को शांत करने के लिए संपर्क किया था। जिसके बारे में किसी को भनक तक नहीं पड़ने दी गई। शनिवार रात भी तंत्र साधना की गई थी। इस प्रक्रिया में एक बरगद के पेड़ की शाखाओं की तरह से सभी सदस्यों को लटकना था। जबकि ललित को बरगद का तना बनना था। परिवार को यकीन था कि मरने से पहले ललित पर पिता की आत्मा आएगी तो वह सभी को बचा लेगा। इसके बाद आत्मा से मुक्ति मिल जाएगी और उनके मोक्ष का रास्ता भी खुल जाएगा। पुलिस को शव भी बरगद के पेड़ से लटके हुए अंदाज में मिले। जांच में पुलिस को परिवार वाले के मोबाइलों में तंत्रमंत्र की साइटों और वीडियो के लिंक भी मिले हैं। जिसे सब्सक्राइब भी किया गया था। फेसबुक वाल पर भी इसी तरह की सामग्री मिली है।

PunjabKesari

× RELATED अहमदाबाद में बुराड़ी जैसा कांड, तंत्र-मंत्र के चलते पूरे परिवार ने किया सुसाइड