बुराड़ी कांड में नया खुलासा, क्राइम ब्रांच को मिले कई रजिस्टर

वेस्ट दिल्ली (महेश चौहान): बुराड़ी मामले में 11 मौतों के पीछे कौन था? अगर मौत की कहानी को रजिस्टर पर लिखने वाला ललित था तो उससेे इस कहानी को लिखवाने वाला कौन था? बाबा या फिर ललित पर आने वाली उसके पिता की आत्मा। इससे और ज्यादा पर्दा अब मंगलवार दोपहर मकान से मिला तीसरा रजिस्टर खोल देगा। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा को अभी तक की जांच में जितने भी सबूत मिले हैं, सभी तंत्रमंत्र की तरफ ही इशारा करते नजर आ रहे हैं। पुलिस को अभी ऐसा कोई सबूत या फिर ऐसा कहने वाला कोई भी नहीं मिला है, जिसने परिवार की किसी से दुश्मनी के बारे में बताया हो।
PunjabKesari
पुलिस अधिकारियों ने बताया कि क्राइम ब्रांच की टीम मंगलवार दोपहर मकान का मुआयना करने के लिए पहुंची थी। टीम को दूसरी मंजिल पर बने कमरे में से एक लाल रंग का रजिस्टर मिला है। यह रजिस्टर करीब 6 सौ पेज का है। जिसके सभी पेज पर कुछ न कुछ लिखा हुआ है। इन पेजों में से काफी ज्यादा पेजों पर धार्मिक फोटो भी चिपका रखी है, जबकि शुरुआती पेज पर एक ग्रीटिंग बना रखा है जिसपर गुड लक भी लिखा हुआ है। सभी पेजों पर धार्मिक और तंत्रमत्र की चीजें लिखी हुई हैं। साथ ही अपने पिता से की गई बातों के बारे में भी लिखा हुआ है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि रजिस्टर मिलने से उनकी जांच जिस दिशा में चल रही है वो और ज्यादा पुख्ता होगी। रजिस्टर की हेंड राइटिंग भी दोनों रजिस्टर पर लिखी हेंड राइटिंग से मिल रही है। रजिस्टर में भी मोक्ष और आत्मा के बारे में लिखा हुआ है, जिसकी विधि करने के बाद उनको क्या चीज मिल जाती। किस चीज से उनको मिलना था। यह नहीं पता चला है। फिलहाल रजिस्टर को खंगाला जाएगा। इसके अलावा भी मौके पर से कुछ दस्तावेज आदि मिले हैं।
PunjabKesari
जंगला लगाने से किया था ललित ने मना
पुलिस अधिकारियों की मानें तो बुराड़ी इलाके में ही रहने वाले कंवरपाल से रोहिणी अपराध शाखा ऑफिस में पूछताछ की गई। कंवरपाल ने ही ललित के मकान में वेलडिंग का काम किया था। कंवरपाल ने ललित से जंगला लगवाकर अच्छी हवा आने की बात कही थी, लेकिन ललित ने उसको कहा था कि हमको पता है कि यहां पर जंगला लगवाना है या फिर बड़े पाइप लगवाने हैं। जब वह पाइप लगवा रहे थे। उसको भी काफी हैरानी हुई थी। ललित ने ही उनको बताया था कि किस तरह से और कितनी दूरी पर कौन सा पाइप लगाना है। जिसमें उन्होंने कुछ एल टाइप के तो कुछ सीधे पाइप लगवाए थे। इसके अलावा अधिकारियों ने ललित और भुवनेश के भाई दिनेश, उनके बेटे और कुछ दोस्तों व दोनों भाइयों के साथ कारोबार करने वालों से पूछताछ की। सभी से उनको एक ही जवाब मिला कि परिवार काफी अच्छा था, किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। पैसों के मामले में उनका किसी पर उधार नहीं था, बल्कि मार्केट वालों को ही उनका उधार देना था। सभी ने तंत्रमंत्र की बात से इंकार भी किया। मकान बनवाते हुए खासतौर पर ललित किसी तरह की बातें करता था। वह कितना तंत्रमंत्र व वास्तु शास्त्र में विश्वास करता था। कब-कब ललित ने क्या बनवाया और क्या तुड़वाया था। ललित ने बुराड़ी में रहने वाले एक युवक के साथ मिलकर दो लाख रुपए की कमेटी भी डाल रखी थी।
PunjabKesari
परिवार के कुछ सदस्यों को भी अब हो रहा है शक
परिवार वालों में से कुछ को अब लग रहा है कि हो सकता है कि मामला तंत्रमंत्र से ही जुड़ा हुआ हो। क्योंकि जिस तरह से उनको भी पता था कि ललीत पर पिता की आत्मा का साया था, तो आत्मा कुछ भी करा सकती थी। उस दिन क्या हुआ, क्या नहीं.. ये अब वो पुलिस से जानने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन बाकी रिश्तेदार व परिवार के लोग आज भी इसे हत्या का ही मामला बता रहे हैं। उन्होंने  कहा है कि परिवार की हत्या हुई है न कि वे किसी तंत्रमंत्र का शिकार बने हैं।
PunjabKesari
लोगों ने कहा, आत्मा आसपास जरूर प्रभाव छोड़ेगी
तीसरे दिन इलाके में अफवाहों का दौर भी दिखाई दिया। इलाके में रहने वाले बुजुर्ग लोगों का कहना है कि मामला तंत्र-मंत्र से ही जुड़ा है। अगर ऐसा है तो आत्मा इस घर में जरूर रहेगी और अब वो आसपास के किसी घर में जाकर अपना प्रभाव जरूर छोड़ेगी। अब रात को लोग इस गली से गुजरते हुए भी डर रहे हैं। जिस 11 पाइपों को दोनों भाइयों ने कुछ समय पहले ही मकान बनवाते हुए लगवाया था। वो किसी वजह से ही लगवाया होगा।
PunjabKesari
27 प्वाइंट भी तंत्र-मंत्र की तरफ कर रहे हैं इशारा
पुलिस अधिकारियों की मानें तो मौके पर से मिले रजिस्टर और डायरी को खंगालने पर अभी तक धार्मिक बातें ही लिखी सामने आ रही हैं, जिसमें मोक्ष, आत्मा, नश्वर शरीर के बारे में लिखा हुआ है। अभी तक करीब 27 प्वाइंट जो रजिस्टर में लिखे सामने आए हैं। उनको लेकर की गई घर में जांच पर सभी प्वाइंट सही बैठ रहे हैं। रजिस्टर और डायरी को सुसाइड नोट की तरह भी देखा जा सकता है, जिसमें खुदकुशी करने व करवाने की बात को धार्मिक भाषा में पहले से ही लिख दिया गया था। अभी भी काफी ऐसी चीजें हैं जिनके बारे में बाहरी लोगों से पूछताछ की जा रही है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED बुराड़ी कांड: मृतकों की साइकोलॉजिकल ऑटोप्सी की रिपोर्ट आई