चुनावी नतीजों से भाजपा की अपराजयेयता के भ्रम को तोड़ा: माकपा

कोलकाता : मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) पोलित ब्यूरो ने मंगलवार को कहा कि मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की हार इस बात का स्पष्ट संकेत है कि केन्द्र की नरेन्द्र मोदी और राज्यों की भाजपा सरकारों के प्रति लोगों में असंतोष और गुस्सा है। पोलित ब्यूरो ने जारी एक बयान में कहा कि इन चुनावी नतीजों ने भाजपा के अजेय होने की भ्रांति को तोड़ दिया है और जनता से जुड़े मुद्दों के निराकरण के बजाए राज्यों की भाजपा सरकारों ने सांप्रदायिक धुव्रीकरण तथा लोगों को बांटने का काम किया है।

मुसलमानों और दलितों पर हमलों की घटनाओं, नफरत एवं हिंसा के वातावरण से लोगों को बांटने की जो रणनीति अपनाई थी वह भी सफल नहीं रही है। माकपा ने अपने बयान में कहा कि जिन राज्यों में भाजपा सत्ता से बाहर हुई है वहां बनने वाली नई सरकारों को लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करना होगा तथा ऐसी नीतियां बनानी होगी जिससे उनके जीवन स्तर में सुधार हो और उनकी समस्याओं में कमी आए। पोलित ब्यूरो में राजस्थान के डूंगरगढ़ और भादरा में दो माकपा उम्मीदवारों की जीत पर जनता को धन्यवाद दिया है।

Related Stories:

RELATED कांगो में राष्ट्रपति चुनाव परिणाम के बाद हिंसा, 2 की मौत