बर्बादी की कगार पर ये अमरीकी देेश, राष्ट्रपति ने बनवाया 238 करोड़ का घर

ला पाजःबोलीविया देश आर्थिक मंदी के चलते बर्बादी के कगार पर है लेकिन देश की हालत को दरकिनार कर राष्ट्रपति एवो मोरालेस ने राजधानी ला पाज में अफने लिए  29 मंजिला आलीशन घर बनवाया है। दावा किया जा रहा है कि इसकी लागत 34 मिलियन डॉलर (करीब 238 करोड़ रुपए) है। देश की अर्थव्यवस्था कमजोर है  ऐसे में लोग इस शाही खर्च को लेकर सरकार की आलोचना कर रहे हैं। उन्होंने इसे देश को बांटने वाला कदम बताया है। 


पिछले हफ्ते इमारत के उद्घाटन के दौरान मोरालेस ने कहा कि नई इमारत में राष्ट्रपति और अन्य प्रशासनिक कार्यालयों के अलावा पांच मंत्रालय भी होंगे। ऐसे में सरकारी खर्च में कमी आएगी। बोलीविया दक्षिण अमरीका का सबसे गरीब देश है। क्रयशक्ति के लिहाज से बोलीविया दुनिया में 87वीं पायदान पर है। वर्ल्ड बैंक ने उसे निम्न मध्यम आय वाला देश करार दिया है। मानव विकास सूचकांक में भी बोलीविया 119वें नंबर पर है।

एक स्थानीय अखबार पेजिना सिएते के मुताबिक इमारत में 1068 वर्गमीटर के सुइट में जकूजी बाथटब, जिम और मसाज की व्यवस्था है। इसमें मोरालेस के लिए प्राइवेट लिफ्ट लगाई गई है। तीन अंडरग्राउंड फ्लोर के अलावा छत पर हैलिपेड बनाया गया है। संचार मंत्री गिजेला लोपेज से इस खबर का न तो खंडन किया और न ही पुष्टि की। हालांकि, यह जरूर कहा कि इसे आम लोगों के लिए बनाया गया है और इसकी लागत 3.4 करोड़ डॉलर नहीं है।

मोरालेस के नए घर को पीपुल्स ग्रेट हाउस नाम दिया गया है। पुराने सरकारी महल पेलेसियो क्यूमादो को अब म्यूजियम बना दिया गया है। इसमें दो बार आग लग गई थी। बोलीविया का कानून ज्यादा ऊंची बिल्डिंग बनाने की इजाजत नहीं देता लेकिन मोरालेस ने विशेषाधिकार का इस्तेमाल करते हुए नियम बदल दिया। एक राजनीतिक विश्लेषक कार्लोस तोरांजो के मुताबिक, "ये देश का अपमान है। बिल्डिंग के जरिए मोरालेस खुद को अमर करना चाहते हैं। बिल्डिंग का बनना इसलिए भी अनैतिक है, क्योंकि बोलीविया में तो लोगों को बीमार पड़ने का भी हक नहीं है।'' 

Related Stories:

RELATED PM नरेंद्र मोदी ने की पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात