मिशन-2019 की तैयारियों में जुटी भाजपा, दिल्ली में मंथन

नई दिल्ली (सुनील पाण्डेय) : मिशन-2019 को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने आज यहां दिल्ली में हरियाणा राज्य चुनाव लोकसभा चुनाव देखरेख समिति के साथ हाईलेवल बैठक की। इस दौरान राज्य के विभिन्न ज्वलंत मुद्दों के साथ ही पूरा फोकस लोकसभा चुनाव रखा गया। साथ ही विधायकों, मंत्रियों, सांसदों एवं हरियाणा से जुड़े केंद्रीय मंत्रियों से रिपोर्ट कार्ड में मांगा। 


अमित शाह का पूरा जोर बूथ मैनेजमेंट पर भी रहा, जिसको लेकर उन्होंने मंत्रियों को निर्देश दिए कि वह अपने प्रवास के दौरान बूथ कार्यकर्ताओं से मिले और उनका फीडबैक लें। इस मौके पर यह भी कहा गया कि मंत्री जिलों में कोर समिति मंत्री और कोर समिति की सदस्य जिलों में मंडल स्तर की बैठकें अधिकारियों के साथ आयोजित करेंगे। साथ ही प्रदेश में ज्यादा से ज्यादा राजनीतिक यात्राएं निकाली जाएं। सूत्रों के मुताबिक अमित शाह ने निर्देश दिया कि मंडल पदाधिकारियों की नियमित बैठक और उनका गांवों में प्रवास भी होना चाहिए। प्रत्येक विधानसभा के प्रत्येक बूथ को ग्रेड देना होगा कि वह भाजपा के लिए किस स्तर  का है। अमित शाह ने सरकार और संगठन दोनों को निर्देश दिया कि पिछले दो लोकसभा और विधानसभा के आंकड़े एकत्रित करने हैं, ताकि विधानसभा क्षेत्रों का विश्लेषण किया जा सके। इन सभी मुद्दों पर बहुत जल्द दोबारा दिल्ली में एक बार फिर बैठक होगी।

 विभिन्न प्रकोष्ठ 5-5-कार्यक्रम गांवों में तय किए जाएं। विधायकों द्वारा दी गई सदस्यों की सूची सत्यापित की जाए। विधायकों और सांसदों को एक-एक हारी हुई सीट दी जाए। इसके अलावा तहसील स्तर तक जन औषधि केंद्र खोले जाएं। मंत्री जिलों के प्रवास के दौरान कार्यकर्ताओं और अधिकारियों के बीच समन्वय बैठक कराएं। इस मौके पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने जानकारी मांगी कि मंगल और बुधवार को क्या मंत्री हरियाणा सचिवालय में बैठकर लोगों की समस्याएं सुनते हैं? इसके अलावा बैठक में जिन मुद्दों पर चर्चा की गई उनमें पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा दिए जाने का विरोध कर रही कांग्रेस के बारे में जनता के बीच प्रचार करना है। साथ ही  सभी मोर्चों का अगले 1 माह में गठन कर देना है। सभी जिलों में कार्यालय बनाने का काम शुरू कर देना है । 10 विस्तारको पर एक पालक कोर कमेटी में से रहेगा। 

Related Stories:

RELATED कांग्रेस नहीं चाहती थी कि छत्तीसगढ़ राज्य बने: शाह