हार्दिक की जनसभा में आपस में भिड़े समर्थक, जमकर बरसे लात-घूंसे

नेशनल डेस्कःकांग्रेस में शामिल हो चुके पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) के पूर्व संयोजक हार्दिक पटेल को तमाचा मारे जाने की घटना के एक दिन बाद आज शाम यहां पाटीदारों का गढ़ कहे जाने वाले निकोल क्षेत्र में एक चुनावी सभा में उनका जबरदस्त हुआ जिसके चलते उनके भाषण के बिना ही सभा को समाप्त कर दिया गया।       

यह सभा अहमदाबाद पूर्व की लोकसभा प्रत्याशी तथा पास में हार्दिक की करीबी सहयोगी रह चुकी गीता पटेल के समर्थन मे आयोजित की गयी थी। सभा में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सिद्धार्थ पटेल, विधानसभा में पार्टी के उपनेता शैलेश परमार और स्वयं गीता पटेल बोल चुकी थीं पर जैसे ही हार्दिक बोलने के लिए उठे तो उनके विरोध में नारेबाजी शुरू हो गयी।


हार्दिक हाय-हाय और समाज का गद्दार हार्दिक जैसे नारे लगाने वाले इन लोगों में से कई ने हार्दिक के बाद पास के संयोजक बनाये गये अल्पेश कथिरिया के फोटो वाले कट आउट भी ले रखे थे। उनका कहना था कि हार्दिक ने पाटीदार आरक्षण आंदोलन का फायदा उठा कर राजनीति चमकानी शुरू कर दी है। वह हेलीकॉप्टर में घूम रहे हैं जबकि अल्पेश जेल में हैं और आंदोलन के चलते मारे गये 14 पाटीदार युवकों के परिजन दुखी हैं।

हार्दिक और कांग्रेस के समर्थक विरोध करने वालो से भिड़ गये और दोनो ने एक दूसरे पर कुर्सियां उछाली तथा आपस में मारपीट और हाथापायी भी की। पुलिस ने बाद में कुछ लोगों को हिरासत में भी ले लिया। सभा को हार्दिक के संबोधन के बिना ही समाप्त कर दिया गया। हार्दिक ने इसे भाजपा का षडयंत्र बताया और कहा कि मोदी साहब (प्रधानमंत्री) के लोगों ने उनका विरोध किया है।

Related Stories:

RELATED मोदी ने ‘अच्छे दिन'' का झांसा देकर जनता को किया गुमराह: हार्दिक पटेल