पंथक और सिखों के मसलों प्रति सरकार का रवैया पक्षपाती :  मान

बठिंडा(अबलू):बेअदबी कांड और सिखों के धार्मिक मामले सरकार द्वारा लटकाए जा रहे हैं और इसके प्रति सरकार गंभीर नहीं है। ये बातें अकाली दल अमृतसर के प्रधान ने बठिंडा में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहीं।

अकाली दल अमृतसर, अकाली दल यूनाइटिड और दल खालसा के सीनियर लीडरों के द्वारा सांझे तौर पर की गई प्रैस कांफ्रैंस में सिमरनजीत सिंह मान ने मौजूदा सरकार पर दोष लगाते हुए कहा कि जस्टिस रणजीत सिंह की रिपोर्ट के बाद बादलों और डी.जी.पी. सुमेध सिंह सैनी को बरगाड़ी कांड और बहिबल कांड का दोषी करार दिए गया है परंतु पक्षपाती रवैये के कारण सरकार उन पर कार्रवाई नहीं कर रही और न ही गिरफ्तारी कर रही है। उन्होंने कहा कि जेलों में बंद सिखों की रिहाई को लेकर सिखों द्वारा धरने, मोर्चे और कुर्बानी तक दी गई, पर इस ओर जानबूझकर ध्यान नहीं दिया गया ताकि सिखों के समस्या को लटका कर उन्हें जलील किया जा सके।

उन्होंने कहा कि जो भी सिख लीडर धार्मिक मसले उठाते हैं जो सरकार की नकामियों को लोगों में उजागर करता है उसकी आई.एस.आई. और कांग्रेस का एजैंट कहा जाता है। इस समय पंजाब का माहौल खराब करने के यत्न किए जा रहे हैं और बेअदबियां करने वाले लोगों को बेनकाब करने के बजाय उन्हें बचाया जा रहा है। बेअदबी कांड को लेकर हिंदू भाईचारे ने भी सिखों का साथ दिया है और सरकार ही हिंदू-सिखों में नफरत के बीज बो रही है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह को चेतावनी देते हुए उन्होंने कहा कि अगर पंजाब सरकार ने बेअदबी कांड के मुख्य दोषी प्रकाश सिंह बादल, सुखवीर बादल और सुमेध सिंह सैनी को सजा नहीं दी और गिरफ्तार नहीं किया तो वह उसी तरह धरने प्रदर्शन और मोर्चा जारी रखेंगे। 

Related Stories:

RELATED डिम्पा ने भाईयों सहित विधायक सैनी से की मारपीट