‘प्राणी जीवन में जैसे कर्म करता, उसे वैसा ही भोगना पड़ता है फल’

जालंधर(कमलेश): केसरी नंदन बालाजी संघ द्वारा भगवान परशुराम जयंती के अवसर पर प्रथम बालाजी सत्संग का भव्य आयोजन किया गया जिसमें श्री विजय चोपड़ा मुख्यातिथि के रूप में उपस्थित हुए। इस अवसर पर पूर्व मंत्री जै किशन सैनी, पूर्व मंत्री मनोरंजन कालिया, विधायक राजिंद्र बेरी, भाजपा नेता अमर सिंह अमरी, श्री राम नवमी उत्सव कमेटी के महासचिव अवनीश अरोड़ा, कोषाध्यक्ष विवेक खन्ना, पूर्व पार्षद दिनेश ढल्ल, एम.डी. सभ्रवाल, डा. मुकेश वालिया, मनोहर लाल महाजन, गीता जयंती महोत्सव कमेटी के अध्यक्ष रवि शंकर शर्मा, स्वामी धर्म विवेक, अविनाश चड्डा, राजेश भगत, महालक्ष्मी मंदिर महिला सत्संग मंडली की अध्यक्ष सुनीता भारद्वाज, नवनीत मदान, महावीर मंदिर कमेटी की प्रधान अंजू मदान, प्रिंस अशोक ग्रोवर, सुदेश विज, पवन कुमार पोड्डी, मीनू शर्मा, प्रवीण कोहली तथा विपन जैन (लुधियाना) ने विशेष अतिथि के रूप में शिरकत की।

कार्यक्रम का शुभारम्भ ज्योति पूजन के साथ हुआ जिसमें संघ के जोङ्क्षगदर कृष्ण शर्मा, सुनील कपूर, जय देव मल्होत्रा, सोमेश आनंद, वीना शर्मा, डॉली हांडा, सारिका भारद्वाज, संतोष वर्मा, नरेंद्र शर्मा, भरत अरोड़ा, राज कुमार कपूर तथा रमेश शर्मा ने भाग लिया। इस अवसर पर जालंधर बार एसोसिएशन के नव निर्वाचित संयुक्त सचिव राहुल राम पाल एडवोकेट तथा सहायक सचिव सौरव शर्मा एडवोकेट को सम्मानित भी किया गया। 2 घंटे तक चले इस बालाजी सत्संग की शुरूआत योग गुरु वीरेंद्र शर्मा ने श्री हनुमान चालीसा के साथ की, जिसमें ब्रिज मोहन शर्मा, अभय बग्गा, अमित शर्मा तथा अन्य साथियों ने साथ दिया। 

योग गुरु ने विभिन्न भजन भी प्रस्तुत किए तथा उनकी व्याख्या करते हुए जीवन का फलसफा समझाने का प्रयास भी किया। सुन गंगा रामा, पिंजरा पुराना तेरा हो गया....भजन गाते हुए उन्होंने समझाया कि मानव जीवन बड़े भाग्य से मिलता है तथा एक मात्र मानव जीवन ही एक ऐसी योनि है, जिस में प्राणी मोक्ष को प्राप्त कर सकता है। उन्होंने बताया कि मानव जैसे कर्म करता है वैसे ही उसके फल भोगने पड़ते हैं। बुरे कर्म करने वाला प्राणी मृत्यु के उपरांत वापस 84 लाख योनियों में चला जाता है। अच्छे कर्म करने वाले प्राणी को एक बार फिर से मानव योनि की प्राप्ति होती है। जो प्राणी सद्कर्म करते हुए सत्संग, योग, यज्ञ, दान, ध्यान करते हैं, उनका संसार में कल्याण होता है। योग गुरु वीरेंद्र शर्मा ने कहा कि श्री हनुमान चालीसा का पाठ करने से हर प्रकार के रोग, कष्ट दूर हो जाते हैं, भूत-पिशाच निकट नहीं आते तथा अष्ट सिद्धियों एवं नव निधियों की प्राप्ति होती है। बालाजी की आरती के साथ कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। 
 
महीने में 2 बार होगा बालाजी का सत्संग
इस अवसर पर सुनील कपूर ने बताया कि भविष्य में हर माह 2 बार विभिन्न स्थानों पर बालाजी का यह सत्संग आयोजित किया जाएगा। योग गुरु वीरेंद्र शर्मा तथा उनके साथी केसरी नंदन बालाजी संघ की ओर से यह सत्संग नि:शुल्क किया जाएगा, जिसमें संघ के सभी सदस्य भी उपस्थित रहेंगे।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!