Kundli Tv- क्या आप जानते हैं बंजरगबाण फायदे ?

ये नहीं देखा तो क्या देखा(video)
धर्म ग्रंथों के अनुसार हनुमान जी एकमात्र ऐसे देवता हैं, जो सशरीर इस पृथ्वी पर रहते हैं और अपने भक्तों की हर मनोकामना पूरी करते हैं। हनुमान जी को संकट मोचन कहा गया है। हनुमान जी का नाम स्मरण करने मात्र से ही भक्तो के सारे संकट दूर हो जाते हैं। ऐसी मान्यता है कि हनुमान जी का जन्म मंगलवार को हुआ। अत: मंगलवार के दिन इनकी पूजा का विशेष महत्व है। हनुमान जी को प्रसन्न करना बहुत सरल है। राह चलते उनका नाम स्मरण करने मात्र से ही सारे संकट दूर हो जाते हैं। हनुमान जी की कृपा पाने और सभी परेशानियों से छुटकारा पाने का एक अचूक उपाय है बजरंग बाण का पाठ। जो लोग हर रोज ये पाठ करते हैं, उन्हें जीवन के सभी सुख मिलते हैं, धन की प्राप्ति होती है, किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होती और उनकी किस्मत का सितारा चमक जाता है।


जब मनुष्य दुश्मनों से घिरा हुआ हो और चारों तरफ से निराश हो चुका हो तो उसे गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित ‘बजरंग बाण’ पूरी श्रद्धा व पवित्र मन से पढऩा चाहिए। इसके पढऩे से शरीर में हनुमान जी की शक्तियों का विकास होने लगता है और मन की संकल्प शक्ति में बढ़ौतरी होती है। इसे पढऩे से मनुष्य के मन से डर और भय खत्म हो जाता है। तांत्रिक क्षेत्रों में भी बजरंग बाण का विशेष महत्व है। शारीरिक रोग, घर में भूत-प्रेत आपदा की बाधाएं, मानसिक परेशानियां आदि से मुक्ति के लिए बजरंग बाण रामबाण की तरह है।

जहां इसका हर रोज पाठ होता है उस घर में कभी कोई समस्या नहीं आती। पाठ करने वाले को चाहिए कि वह अपने सामने हनुमान जी का चित्र और यदि हनुमान यंत्र मिल सके तो उसे भी या चित्र या मूर्त रख ले और पूरी भावना तथा आत्मविश्वास के साथ उनका मानसिक ध्यान करे।

उपासक स्नान कर शुद्ध वस्त्र धारण कर बैठे यदि लाल लंगोट पहने हो तो उत्तम माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार महिलाओं को बजरंग बाण का पाठ नहीं करना चाहिए परन्तु वह हनुमान जी की मूर्त या चित्र के सामने दीपक तथा अगरबत्ती जलाकर हनुमान चालीसा का पाठ कर सकती हैं।

हनुमान साधना में हनुमान जी की मूर्त या चित्र के सामने तेल का दीपक जलाना चाहिए और उन्हें गुड़ मिश्रित चने का भोग लगाना चाहिए। उपासना करने वाला अपना आसन ऊनी वस्त्र का ही बिछाए और मन में हनुमान जी का ध्यान करे। धीरे-धीरे उपासक स्वयं महसूस करेगा कि उसके शरीर में एक नई चेतना और शक्ति का प्रवेश हो रहा है।

बच्चों की नजर उतारने, शांत और गहरी निंद के लिए, रात को अकेले यात्रा करते समय भूत बाधा दूर करने तथा अकारण भय को दूर करने के लिए बजरंग बाण आश्चर्यजनक सफलता देता है। किसी भी महत्वपूर्ण कार्य पर जाने से पहले भी यदि इसका पाठ किया जाए तो उसे निश्चय ही सफलता प्राप्त होगी।
नौकरी में तरक्की पाना चाहते हैं तो देख लें ये वीडियो 

Related Stories:

RELATED इन शिक्षण संस्थानों में नहीं मिलेगा 10% आरक्षण का लाभ