रेप के मामले में फंसा एक और बाबा, कई मासूम लड़कियों को बना चुका है हवस का शिकार

नई दिल्ली (नवोदय टाइम्स):रेप पीड़िता मंगलवार को क्राइम ब्रांच के अधिकारियों के पास बयान देने के दौरान बेहद भावुक होकर रो पड़ी। करीब दो घंटे तक महिला का बयान दर्ज किया गया। उन्होंने आपबीती बताते कहा कि उन्हें यकीन है कि आशु गुरु ने न केवल उन्हें व उनकी नाबालिग बेटी को बार-बार हवस का शिकार बनाया, बल्कि उन जैसी लाचार दर्जनों महिलाओं, युवतियों व किशोरियों से घिनौना कृत्य कर चुका है। पीड़ितों की फेहरिस्त लंबी है। लेकिन लोकलाज के डर से कोई सामने नहीं आ रही है। मंगलवार को आशु गुरुजी के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराने के मामले में क्राइम ब्रांच ने मंगलवार को जांच शुरू कर दी। सबसे पहले महिला का साकेत कोर्ट में धारा 164 के तहत बयान दर्ज कराया गया।

PunjabKesari

पुलिस अधिकारी की मानें तो पीड़िता के बयान के बाद पुलिस घटना स्थल पर पीड़िता को ले जाकर मामले का रिक्रिएशन करेगी, ताकि घटना के बारे अधिक से अधिक सबूत जुटाया जा सके। पुलिस पीड़िता को रोहिणी सेक्टर सात स्थित आशु गुरुजी के उस आश्रम में ले जायेगी, जहां पर वर्ष 2013 में पहली बार दिवाली के मौके पर आशु गुरु और उसके मैनेजर ने महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया था। इसके अलावा, उन घटना स्थलों का भी रिक्रिएशन किया जायेगा, जहां पर आशु के बेटे समर और दोस्त सौरभ ने कुकर्म की वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस अधिकारी की मानें तो हर उस क्राइम सीन की जांच की जाएगी, जहां-जहां पर पीड़िता के साथ यौन शोषण हुआ था। 

PunjabKesari

भूमिगत हो गए आशु गुरु समेत अन्य आरोपी
क्राइम ब्रांच का कहना है कि हौजखास में भी आशु भाई गुरुजी का परामर्श केंद्र है। वहीं पर महिला बेटी के साथ कई बार आशु के बुलाने पर आई थी। वहां भी उन्हें कई बार हवस का शिकार बनाया गया। मुकदमा दर्ज करने के बाद हौजखास थाना पुलिस ने गोपनीय तरीके से आशु के खिलाफ कार्रवाई नहीं की। थाना पुलिस से ही आशु को मुकदमा दर्ज होने की जानकारी मिल गई, जिसके बाद 9 सितंबर को आशु समेत चारों दिल्ली छोड़ भूमिगत हो गए। चारों के मोबाइल फोन बंद आ रहे हैं। क्राइम ब्रांच का कहना है कि दक्षिण जिला पुलिस अगर समय रहते कार्रवाई करती तो चारों गिरफ्तार किए जा सकते थे।

PunjabKesari

त्रिनगर में शुरू किया ज्योतिषी का धंधा, नेता से लेकर अभिनेता तक जाते हैं शरण में 
आशु गुरु ने रोहिल्ला के पदम नगर में अचानक अपना धंधा बंद कर त्रिनगर में ज्योतिषी का धंधा शुरू किया था। आज वह करोड़ों का मालिक है। उसके प्रभाव का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि उसके पास राजनेता से लेकर अभिनेता और पुलिस के आला अधिकारी भी आशीर्वाद लेने के लिए मत्था टेकते थे। कुछ दिन पहले ही वह मुंबई में रहने वाली एक जानी-मानी अभिनेत्री की समस्या दूर करने के लिए गया था। इसके अलावा, वह कई पार्टियों के नेताओं के भी बहुत करीब माना जाता है।

PunjabKesari

दाती मदन के बाद अब यौन शोषण के मामले में घिरा फर्जी ज्योतिषाचार्य आशु भाई गुरुजी (खुद रखा गया उपनाम) का कुछ पता नहीं चल रहा है। जहां एक ओर वह फरार है, वहीं पुलिस की छापेमारी में एक के बाद एक बड़े खुलासे हो रहे हैं। छापे में पुलिस को एक वोटर आईडी कार्ड मिला है, जिस पर फोटो तो आशु गुरुजी की है, लेकिन नाम आसिफ खान लिखा है। इससे शक हो रहा है कि नाम बदलकर आसिफ खान आशु गुरुजी बन गया और लोगों को ठगता रहा। लोगों को ज्योतिष के नाम पर ठग-ठग कर उसने अकूत संपत्ति बना ली। उधर, आशु गुरुजी और उनके बेटे पर रेप का आरोप लगाने वाली महिला से क्राइम ब्रांच ने मंगलवार को दो घंटे तक पूछताछ की। जो भी बातें महिला ने बताई हैं, उनकी जांच पुलिस करेगी। 

नाम बदलने के कारण तलाश रही पुलिस 
क्राइम ब्रांच इस बात की जांच गहनता से कर रही है कि आखिर आसिफ खान और आशु गुरुजी के नाम का रहस्य क्या है। क्या आसिफ खान ने असली नाम छिपाने के लिए आशु गुरुजी नाम रखा, या उसने आसिफ खान के नाम से फर्जी वोटर आईडी कार्ड बनवा रखा था। कहीं वह किसी आपराधिक मामले में शामिल या वांछित तो नहीं है। कहीं उसके खिलाफ मुकदमे तो नहीं हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, अगर असली नाम आसिफ खान है तो तय है कि आशु गुरुजी नाम रखने के पीछे भी कोई बड़ा कारण होगा।

नेता से लेकर अभिनेता तक पहुंचते थे शरण में 
जानकारी के मुताबिक, आशु गुरुजी की शरण में कई बॉलीवुड सितारे पहुंचते थे। यही नहीं, नेता और बड़े-बड़े अधिकारी भी उससे मिलते थे। कुछ दिन पहले ही वह मुंबई में रहने वाली एक जानी-मानी अभिनेत्री की समस्या दूर करने के लिए गया था। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!