अमेरिका का मानना- श्रीलंका में राष्ट्रपति के गलत फैसले से बिगड़ी स्थिति

वाशिंगटन: अमेरिका के प्रमुख ‘ थिंक टैंक’’ का कहना है कि श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना द्वारा प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को हटा कर उनकी जगह महिन्दा राजपक्षे को नियुक्त करना एक ‘‘गलत फैसला’’ था और इससे पूरी स्थिति बिगड़ गई। गौरतलब है कि सिरिसेना ने 9 अक्तूबर को संसद भंग कर अगले साल पांच जनवरी को चुनाव कराने की घोषणा की थी। लेकिन इसके बाद यह भी स्पष्ट हो गया कि राजपक्षे के पास बहुमत साबित करने के लिए पर्याप्त संख्या बल नहीं था।

   

 राजपक्षे को 225 सदस्यीय संसद में बहुत साबित करने के लिए 113 सांसदों का समर्थन चाहिए था।  दक्षिण एशिया मामलों पर केंद्रित थिंक टैंक ‘अटलांटिक काउंसिल’ के निदेशक भरत गोपालस्वामी ने कहा कि संसद भंग करना इस बात को रेखांकित करता है कि सिरिसेना ने बहुमत जुटाने की अपनी क्षमता का गलत आकलन किया।       

सिरिसेना ने करीब साढ़े तीन साल तक तनावपूर्ण संबंध के बाद 26 अक्तूबर को अचानक रानिल विक्रमसिंघे को प्रधानमंत्री पद से बर्खास्त कर दिया था और उनके स्थान पर महिन्दा राजपक्षे को प्रधानमंत्री नियुक्त कर दिया था। इस कदम से देश में संवैधानिक संकट उत्पन्न हो गया। 

 सिरिसेना ने संसदीय कार्यवाही 16 नवंबर तक के लिए स्थगित कर दी थी। बाद में घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दबाव में आकर उन्होंने 14 नवंबर को संसद की बैठक फिर बुलाने के लिए नोटिस जारी किया। फिर पिछले सप्ताह शुक्रवार को उन्होंने आखिरकार संसद भंग कर जनवरी 2019 में चुनाव कराने की घोषणा की। 
 
 

Related Stories:

RELATED ''पाक अब भी नापाक, अमेरिका को नहीं देना चाहिए एक भी डॉलर''