शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए बनाए जाएंगे मेंटर

नई दिल्ली:आल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) ने देशभर में संघर्षरत इंस्टीट्यूट्स में शिक्षा की बेहतरी व संस्थान की दशा बदलने के लिए आईआईटी और एनआईटी से रिटायर अध्यापकों को मेंटर बनाने का निर्णय लिया है। अब एआईसीटीई ऐसे अध्यापकों को मेंटर बनने का आमंत्रण देगा। यह मेंटर्स संस्थानों में ऐसे पदों पर होंगे जहां से ये संस्थान में शिक्षा के स्तर में ऊंचाई और छात्रों के अनुभव में वृद्धि कर सकते हैं। 

यह बात एआईसीटीई डायरेक्टर अनिल सहत्रबुद्धि ने कही। उन्होंने कहा कि दिसंबर 2017 में एआईसीटीई ने देश भर के तकनीकी संस्थानों में प्रदान की जाने वाली शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए बेहतर सिस्टम और प्रक्रिया शुरू करने के लिए एक मिशन की शुरुआत की थी। इसके अलावा अच्छा प्रदर्शन करने वाले जिन कॉलेजों ने स्टॉफ के प्रमोशन में तय मानकों में कटौती की बात की उसे भी मान लिया गया जो कि सभी के लिए मददगार साबित होगा।

उन्होंने कहा कि मेंटर बनाने की प्रक्रिया भी कॉलेजों के लिए मददगार साबित होगी जिन कॉलेजों को मेंटर नहीं मिलेंगे उन कॉलेजों के सेवानिवृत फैकल्टी से उनकी विशेषज्ञता के साथ ऐसे संस्थानों की मदद करने का एआईसीटीई अनुरोध करेगा।

Related Stories:

RELATED शिक्षा विभाग के आदेशों की स्कूल उड़ा रहे धज्जियां