आज का पंचांग- 19 फरवरी, 2019

ये नहीं देखा तो क्या देखा (Video)


आज 19 फरवरी, 2019 मंगलवार का दिन है। पूर्णिमा तिथि होने से इस वार का महत्व बढ़ जाता है। इसके स्वामी चंद्रमा हैं। इस तिथि में जन्मा बच्चा बहुत महत्वाकांक्षी, अपने भविष्य के बारे में बड़े-बड़े प्लान सोचने, ऊंची-ऊंची उड़ाने भरने, जीवन में अच्छी धन सम्पदा, दौलत अर्जित करने वाला, स्वादिष्ट भोजनों-व्यंजनों को पसंद करने वाला एवं अपोजिट सैक्स, विशेषकर फीमेल्ज के प्रति जल्दी अट्रैक्ट हो जाने वाला होता है। चंद्रमा की पूजा-अर्चना करना कल्याणकारी रहता है।

नक्षत्र 
आश्लेषा नक्षत्र के देवता सर्प तथा स्वामी बुध हैं। जबकि मघा नक्षत्र के देवता पितर तथा स्वामी केतु हैं। आश्लेषा तथा मघा दोनों गंड मूल कारक नक्षत्र हैं। जन्म के 27वें दिन के आसपास जब ये नक्षत्र पुन: आएं, तब इनकी पूजा-अर्चना करा लेने का विधान है। मघा नक्षत्र में जन्मे बच्चों के मन में बड़े हो जाने पर पितरों के रूठे होने का ख्याल या डर बना रहता है।

 योग
शोभन योग का स्वामी बृहस्पति तथा अतिगंड योग का स्वामी चंद्रमा है। शोभन योग में जन्मा बच्चा वैल एजुकेटिड, दूसरों का आदर सत्कार करने वाला होता है। चने की दाल का बिजनैस सूट कर सकता है। अति गंड योग में जन्मा बच्चा कूल नेचर वाला, साफ्ट  स्पोकन, तबीयत से कुछ चंचल, डावांडोल माइंड-सोच वाला होता है। कुछ ग्रंथकार अतिगंड योग को अशुभ फलकारक भी मानते हैं। 

करण
विष्टि करण का स्वामी यम है। इस करण में जन्मा बच्चा कुछ जिद्दी, हठी, अपनी मनमानी करने, अपनी मर्जी दूसरे पर ठोंसने तथा अड़ियल, जोशीले नेचर का तथा दूसरे के साथ जल्दी एडजस्टमैंट या समझौता न करने वाला होता है। लोहा-लैदर से बनी किसी वस्तु का दान करना कल्याणकारी रहता है।

वार
मंगलवार के देवता-अधिदेवता कार्तिकेय हैं। मंगलवार जन्मा बच्चा हिम्मती, उत्साही, कर्मठ, निडर, दिलेर, शार्प बुद्धि-दिमाग वाला, प्रापर्टी, रियल एस्टेट, बिल्डर्ज, कंस्ट्रक्शन, कंटैक्ट्रशिप जैसे प्रोफैशन से रोजी-रोटी कमाने वाला होता है। वैल्युएबल मैटल्स का बिजनैस भी उसे सूट कर सकता है। राज दरबार, कोर्ट-कचहरी के साथ जुड़ा कोई काम इस दिन हाथ में लेने पर अच्छा रिजल्ट देता है।

सूर्योदय कालीन कुंडली
सूर्य       कुंभ में
चंद्रमा    कर्क  में
मंगल    मेष में
बुध      कुंभ में
गुरु      वृश्चिक में
शुक्र     धनु में
शनि    धनु में
राहू     कर्क में
केतु    मकर में


दिशा शूल
उत्तर एवं वायव्य दिशा के लिए।

गंड मूल काल
पूर्व दोपहर 11.03 तक जन्मे बच्चे को आश्लेषा नक्षत्र की तथा उसके बाद मघा नक्षत्र की पूजा लगेगी।

भद्रा काल
भद्रा पूर्व दोपहर 11.18 तक।

स्पैशल पर्व
माघ पूर्णिमा, माघ स्नान समाप्त, श्री सत्य नारायण व्रत, श्री ललिता जयंती, श्री गुरु रविदास जयंती, अर्ध कुंभी श्री प्रयागराज की अंतिम स्नान तिथि। इस दिन तीर्थोदक स्नान का विशेष माहात्मय माना गया है।

शुभ पंचांग
तारीख : 
                     19 फरवरी, 2019
वार:                            मंगलवार
अयन:                         उत्तरायण 
विक्रमी सम्वत् :            2075
विक्रमी फाल्गुन प्रविष्टे:  7
राष्ट्रीय शक सम्वत् :     1940
शक माघ तारीख:         30
हिजरी साल :              1440
महीना:                      जमादि उल्सानी, तारीख 13
पक्ष :                         माघ शुक्लतिथि : पूर्णिमा (रात 9.24 तक) तथा तदोपरांत तिथि प्रतिपदा।
नक्षत्र:                       आश्लेषा (पूर्व दोपहर 11.03 तक) तथा तदोपरांत नक्षत्र मघा।
योग:                        शोभन (पूर्व दोपहर 11.48 तक) तथा तदोपरांत योग अतिगंड।
करण:                     विष्टि (पूर्व दोपहर 11.18 तक) तथा तदोपरांत करण बव।
चंद्र राशि:                 कर्क (पूर्व दोपहर 11.03 तक) तथा तदोपरांत चंद्र राशि सिंह।
सूर्योदय/सूर्यास्त:      प्रात: 7.09/सायं 6.13 (जालन्धर समय)।
राहू काल:                बाद दोपहर 03.00 से 04.30 बजे तक।

आज पैदा होने वाले बच्चों का नामाक्षर तथा भविष्यफल
समय-प्रात: 5.49 से लेकर पूर्व दोपहर 11.03 तक
नामाक्षर-डो
यह बच्चा शार्ट टैम्पर्ड, जिद्दी, अडिय़ल, खाने-पीने तथा स्वादिष्ट व्यंजनों, नानवैज, लिकर, ड्रिंक्स का शौकीन तथा फीमेल सैक्स के प्रति जल्दी, अट्रैक्ट होने वाला होता है।

समय-पूर्व दोपहर  11.04 से लेकर सायं 4.07 तक
नामाक्षर-
इस चरण में जन्मे बच्चे का इंट्रैस्ट वकालत, खासकर क्रिमिनल केसों की पैरवी करने में होता है। वह एक्टिंग करने तथा लीडरी करने का शौकीन तथा स्वादिष्ट  भोजनों-व्यंजनों को पसंद करने वाला होता है।

समय-सायं 4.08 से लेकर रात 9.32 तक
नामाक्षर- मी
यह बच्चा मैडीकल, सर्जरी, ज्यूलरी, कंट्रैक्टरशिप के साथ जुड़े प्रोफैशन में अच्छी सक्सैस पाने वाला होता हैै। पीठ या बैक बोन से जुड़ी किसी तकलीफ से भी पीड़ित रह सकता है।

समय- रात 9.33 से लेकर 19-20  फरवरी मध्य रात 2.46 तक 
नामाक्षर- मू
यह बच्चा शार्ट टैम्पर्ड, जल्द आपा खो देने तथा रिएक्ट करने वाला, आऊट स्पोकन, साफ-सुथरी एवं टू दी प्वाइंट बात करने वाला होता है।

समय- 19-20 मध्य रात 2.47 से लेकर अगले दिन -20 फरवरी ) प्रात: 8.00 बजे तक
नामाक्षर- मेे
यह बच्चा ज्यूलरी, आर्टिफिशियल ज्यूलरी के काम में अच्छी सक्सैस पाने वाला, मैडीकल साईंस, वकालत के प्रोफैशन को पसंद करने वाला तथा कारोबारी तौर पर वैल सैटल्ड होता है। 

कुंभ के बारे में कितना जानते हैं आप !

Related Stories:

RELATED आज का पंचांग- 21 मार्च, 2019