शीर्ष 10 कंपनियों में से छह के बाजार पूंजीकरण में 98,502 करोड़ रुपए की वृद्धि

नई दिल्लीः देश की शीर्ष 10 मूल्यवान कंपनियों में से छह के बाजार पूंजीकरण में पिछले सप्ताह 98,502.47 करोड़ रुपए की वृद्धि हुई। इसमें सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी टीसीएस सर्वाधिक लाभ में रही। बृहस्पतिवार को समाप्त सप्ताह में लाभ में रहने वाली अन्य कंपनियों में रिलायंस इंडस्ट्रीज लि. (आरआईएल), एचडीएफसी बैंक, एचयूएल, कोटक महिंद्रा बैंक तथा आईसीआईसीआई बैंक शामिल हैं। वहीं दूसरी तरफ आईटीसी, एचडीएफसी, इन्फोसिस तथा एसबीआई को बाजार मूल्यांकन के लिहाज से नुकसान हुआ। 

महावीर जयंती और गुड फ्राइडे के कारण शेयर बाजार क्रमश: बुधवार और शुक्रवार को बंद रहे। अवकाश के कारण कम कारोबारी दिवस वाले सप्ताह में सेंसेक्स बृहस्पतिवार को 373.17 अंक यानी 0.96 प्रतिशत मजबूत होकर 39,140.28 अंक पर बंद हुआ। टीसीएस के बाजार पूंजीकरण (एमकैप) में सर्वाधिक वृद्धि हुई। कंपनी का एकीकृत शुद्ध लाभ मार्च 2019 को समाप्त तिमाही में 17.7 प्रतिशत बढ़ने की खबर के बाद से कंपनी के शेयर में तेजी रही है। 

आलोच्य सप्ताह में रिलांयस इंडस्ट्रीज का बाजार पूंजीकरण 25,957.18 करोड़ रुपए बढ़कर 8,76,585.81 करोड़ रुपए तथा एचडीएफसी बैंक 6,808.26 करोड़ रुपए मजबूत होकर 6,23,678.06 करोड़ रुपए पहुंच गया। आईसीआईसीआई बैंक का मूल्यांकन 6,739.51 करोड़ रुपए चढ़कर 2,61,018.37 करोड़ रुपए तथा कोटक महिंद्रा बैंक 5,966.44 करोड़ रुपए मजबूत होकर 2,62,789.40 करोड़ रुपए पर आ गया। एचयूएल का एमकैप 3,593.41 करोड़ रुपए की तेजी के साथ 3,76,106.57 करोड़ रुपए पर पहुंच गया। दूसरी तरफ इन्फोसिस का बाजार पूंजीकरण 13,740.3 करोड़ रुपए घटकर 3,12,990.25 करोड़ रुपए पर आ गया। 

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) का मूल्यांकन 3,926.83 करोड़ रुपए कम होकर 2,77,466.17 करोड़ रुपए तथा एचडीएफसी का एमकैप 3,847.41 करोड़ रुपए घटकर 3,44,958.84 करोड़ रुपए पहुंच गया। वहीं आईटीसी का बाजार पूंजीकरण 1,532.33 करोड़ रुपए घटकर 3,73,091.45 करोड़ रुपए पर आ गया। शीर्ष 10 कंपनियों की सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज पहले पायदान पर रही। उसके बाद क्रमश: टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर लि., आईटीसी, एचडीएफसी, इन्फोसिस, एसबीआई, कोटक महिंद्रा बैंक तथा आईसीआईसीआई बैंक का स्थान रहा।

Related Stories:

RELATED शीर्ष दस में से नौ कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 82,379.79 करोड़ रुपए बढ़ा