फैस्टिव सीजन में 30 लाख होगी ई-कॉमर्स की डेली डिलीवरी!

बेंगलूरूः अमरीका की 2 बड़ी रिटेल कम्पनियां एमेजॉन और वॉलमार्ट भारत में इस वर्ष पहली बार फैस्टिव सीजन में आमने-सामने होंगी। इंडस्ट्री के एक्सपर्ट्स का मानना है कि अक्तूबर में शुरू होने वाली जोरदार सेल की अवधि दौरान ई-कॉमर्स के जरिए प्रोडक्ट्स की डिलीवरी रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच सकती है।

इस बार ई-कॉमर्स कम्पनियों की प्रतिदिन की डिलीवरी 30 लाख को पार कर सकती है जो पिछले वर्ष समान अवधि में औसत 20 लाख की रही थी। फ्लिपकार्ट और एमेजॉन के ऑफर्स और डिस्काऊंट बढ़ाने से ऐसा होगा। इन कम्पनियों के फ्लैगशिप सेल्स इवैंट दौरान शिपमैंट दोगुनी हो सकती है।

मार्कीट रिसर्च फर्म फॉरैस्टर के सीनियर फोरकास्ट एनालिस्ट सतीश मीणा ने कहा कि ई-कॉमर्स कम्पनियों के लिए यह फैस्टिव सीजन पिछले वर्ष से बड़ा होने की संभावना है। पिछले वर्ष जी.एस.टी. लागू होने से पहले हुई अधिक बिक्री के कारण फैस्टिव सीजन कुछ कमजोर रहा था। उन्होंने कहा कि इस दौरान ई-कॉमर्स कम्पनियों की शिपमैंट 28 लाख तक पहुंच सकती है। फ्लैगशिप सेल्स इवैंट्स दौरान शिपमैंट बढ़कर 45 लाख प्रतिदिन पर पहुंच सकती है। वर्ष के बाकी समय में ई-कॉमर्स शिपमैंट औसत 12 लाख रहती है।

एमेजॉन इंडिया के प्रवक्ता ने कहा कि ट्रैफिक, नए कस्टमर्स, डिजीटल पेमैंट के लिहाज से यह अभी तक का हमारा सबसे बड़ा सीजन रहेगा। कस्टमर्स अधिक बचत करने के साथ ही नो-कॉस्ट ई.एम.आई. और एक्सचेंज जैसे ऑफर्स का फायदा उठा सकते हैं। इस बारे फ्लिपकार्ट ने कोई जवाब नहीं दिया।

Related Stories:

RELATED 2022 तक 100 अरब डॉलर का हो जाएगा भारतीय ई-कॉमर्स बाजार