18 साल के युवक ने किया एप्पल पर 7000 करोड़ रुपए की मानहानि का दावा

गैजेट डैस्क: अपने facial recognition फीचर को लेकर एप्पल अक्सर सुॢखयों में रहा है। एक बार फिर इसे लेकर कम्पनी को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। दरअसल 18 वर्षीय एक युवक ने एप्पल के इस फीचर के खिलाफ केस दर्ज करवाया है, जिसमें उसने एप्पल के खिलाफ 1 बिलियन (लगभग 7000 करोड़) की मानहानि का दावा किया है।

क्या है पूरा मामला
दायर मुकद्दमे में बाह ने कहा कि उन्हें नवम्बर में न्यूयॉर्क में उनके घर पर गिरफ्तार किया गया था और एक एप्पल स्टोर से चोरी करने का आरोप लगाया गया था। गिरफ्तारी वारंट में एक तस्वीर शामिल थी जो बाह से नहीं मिलती थी। बाह ने कहा कि कुछ समय पहले एक गैर-फोटो शिक्षार्थी का परमिट उसने खो दिया था, जिसके साथ इन चोरी की घटनाओं को अंजाम दिया गया है। बाह ने दावा किया कि, उसका नाम गलती से एप्पल के फेशियल-रिकोग्निशन सिस्टम में चोर के चेहरे से जुड़ा हो सकता है, उसका इन चोरियों में कोई योगदान नहीं है। इसके अलावा, बॉस्टन की चोरी के समय, बाह मैनहट्टन में एक समारोह में भाग ले रहा था, जहां 1,200 डॉलर मूल्य का सामान चोरी हो गया था।

यूजर्स की आइडैंटिटी का हो रहा गलत इस्तेमाल
यह पहली ऐसी अजीब घटना है जिस कारण एप्पल की facial recognition फीचर पर सवाल खड़े हो सकते हैं हालांकि ये स्पष्ट नहीं है कि इस मामले को लेकर अदालत में क्या होगा। न्यूयार्क पोस्ट के अनुसार चोरी के संदेह वाले व्यक्तियों को ट्रैक करने के लिए एप्पल जिस सॉफ्टवेयर का उपयोग करता है वह उपभोक्ताओं को अपने लिए सेफ नहीं लगता। उपभोक्ताओं को डर लगा रहता है कि पता नहीं कि उनके चेहरे का चुपके से कौन विश्लेषण कर रहा है। ऐसे में कहा जा सकता है कि यूजर्स की आइडैंटिटी का कोई भी गलत इस्तेमाल कर सकता है।

Related Stories:

RELATED शख्स ने एप्पल को बनाया बेवकूफ, 1500 नकली आईफोन्स को असली में बदला