बैडमिंटन में कोचों को उचित दर्जा नहीं मिलता : गोपीचंद

Friday, May 5, 2017 7:47 PM
बैडमिंटन में कोचों को उचित दर्जा नहीं मिलता : गोपीचंद

नई दिल्ली: भारत के मुख्य बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद का मानना है कि भारत में बैडमिंटन कोचों को उचित दर्जा नहीं मिलता और ना ही उन्हें अच्छा भुगतान किया जाता है। गोपीचंद ने भारतीय बैडमिंटन संघ द्वारा आयोजित सम्मेलन के दौरान कहा ,‘‘ कोचों के प्रयासों को सराहा जाना चाहिये। 

शिविर में भाग लेने वाले किसी भी कोच को अच्छा भुगतान नहीं होता। हमें खिलाडिय़ों के साथ काम करने वाले सहयोगी स्टाफ के प्रयासों की भी सराहना करनी चाहिये ।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ शिक्षा व्यवस्था में केजी, स्नातक और परा स्नातक होता है लेकिन कोचों के प्रदर्शन को खिलाडिय़ों के प्रदर्शन से जोड़ा जाता है लिहाजा कई बार कोच खिलाडिय़ों के साथ काफी लंबे समय तक लटके रह जाते हैं ।’’  



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!